Top
Begin typing your search...

गाजियाबाद पुलिस ने फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर बनकर ठगी करने वाले 4 अभियुक्त किए गिरफ्तार

बीती 13 सितम्बर को डॉ. महानन्द सिंह के घर पर फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर बनकर आए और जेल भेजने की धमकी देकर पांच लाख रुपए ढगी करके ले गया था.

गाजियाबाद पुलिस ने फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर बनकर ठगी करने वाले 4 अभियुक्त किए गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजियाबाद : जनपद गाजियाबाद में पुलिस ने ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है जो फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर बनकर अपने साथियों के साथ मिलकर ठगी करते थे. पुलिस ने ऐसे चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है. साहिबाबाद सीओ राकेश कुमार मिश्रा ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि थाना साहिबाबाद एसएचओ दिनेश सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम को रामपार्क कॉलोनी मोड़ के पास से डॉ. महानन्द सिंह के साथ ड्रग इंस्पेक्टर बनकर अपने साथियों के साथ डरा-धमकाकर धोखाधड़ी करने वाले चरों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया.

गिरफ्तार अभियक्तों के पास से ठगी गई रकम से दो लाख साठ हजार रुपए बरामद करने में सफलता प्राप्त की. आपको बता दें डॉ. महानन्द सिंह से इन चारों अभियुक्तों ने पांच लाख रुपए की ठगी की थी. जिसमें से ये रकम बरामद की है.



बीती 13 सितम्बर को डॉ. महानन्द सिंह के घर पर फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर बनकर आए और जेल भेजने की धमकी देकर पांच लाख रुपए ढगी करके ले गया था. उक्त फर्जी ड्रग इंस्पेक्टर के साथ उसके चार साथी भी मौजूद थे. इन सभी ने एक योजना बनाकर डॉ. से पांच लाख रुपए की ठगी की.

डॉ. महानन्द सिंह के साथ हुई ठगी की योजना डॉ. के दोस्त रविंद्र उर्फ़ टिंकू ने अपने साथियों के साथ मिलकर की. रविंद्र उर्फ़ टिंकू का डॉ. के साथ करीब 10-12 साल से सम्बन्ध है व आना जाना भी है. डॉ. महानन्द सिंह ने घटना से पूर्व ही 20 लाख रुपए का प्लाट बेचा था जिसकी सूचना डॉ. के दोस्त रविंद्र उर्फ़ टिंकू की थी. इसी के चलते रविंद्र उर्फ़ टिंकू ने अपने साथियों के साथ मिलकर डॉ. से रुपए ऐठनें की योजना बनाई. अभियुक्तों के पास से चार मोबाइल फ़ोन भी बरामद किये हैं.


रिपोर्ट : प्रमोद दुवे

Arun Mishra
Next Story
Share it