Top
Begin typing your search...

पूर्व मंत्री राजपाल त्यागी ने अपने विधायक बेटे पर लगाए गंभीर आरोप, मामा के मर्डर में बड़े भाई को फंसाने का आरोप

आरोप लगाया है कि विधायक और पुलिस उनके बेटे गिरीश त्यागी को हत्याकांड में फंसाने की साजिश रच रहे हैं।

पूर्व मंत्री राजपाल त्यागी ने अपने विधायक बेटे पर लगाए गंभीर आरोप, मामा के मर्डर में बड़े भाई को फंसाने का आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजियाबाद : मुरादनगर से भाजपा विधायक अजीत पाल त्यागी के मामा नरेश त्यागी की हत्या से जुड़े मामले में नया मोड़ आ गया है। पूर्व कैबिनेट मंत्री व विधायक के पिता राजपाल त्यागी ने प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाया है कि विधायक और पुलिस उनके बेटे गिरीश त्यागी को हत्याकांड में फंसाने की साजिश रच रहे हैं।

पूर्व कैबिनेट मंत्री ने आरोप लगाया है कि उनका छोटा बेटा ( विधायक अजीत पाल त्यागी) नहीं चाहता है कि गिरीश त्यागी का परिवार राजनीतिक रूप से सक्रिय हो। गिरीश के बेटे मोहित की पत्नी रश्मि जिला पंचायत चुनाव लड़ना चाहती है, जिसको लेकर मुरादनगर विधायक ने मुझे से कहा कि अगर वह चुनाव लड़ती है तो मैं शहर छोड़कर चला जाऊंगा या विदेश चला जाऊंगा, जिसे मैंने नजरअंंदाज कर दिया था।

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि अजित पुलिस के साथ मिलकर जितेंद्र त्यागी को गिरफ्तार करा उसके मुंह से गिरीश त्यागी का नाम उगलवाकर उनके बड़े बेटे को फंसाना चाहते हैं। पूर्व मंत्री बोले कि, गिरीश त्यागी अपने पुत्र मोहित व पत्नी रश्मि को मुरादनगर क्षेत्र से जिला पंचायत चुनाव लड़वाना चाहते हैं। मुरादनगर विधायक ने इनके चुनाव लड़ने पर शहर छोड़ने या विदेश जाने की धमकी दी थी। गिरीश अपनी सुरक्षा की खातिर शस्त्र लाइसेंस और गनर की सिफारिश के लिए सात अक्टूबर को ही लखनऊ गए थे।


राजपाल त्यागी का आरोप है कि गिरीश त्यागी अपनी और अपने बच्चों की सुरक्षा के लिए शस्त्र लाइसेंस और गनर की मांग को लेकर 7 तारीख से ही लखनऊ में था। नौ अक्तूबर को मुख्यमंत्री आवास से निकलते वक्त पुलिस ने गिरीश त्यागी के पीछे चल रही दूसरी गाड़ी को रोक लिया था। फिर फोटो से यह मिलान करने के बाद उस गाड़ी को जाने दिया गया कि उसके अंदर गिरीश त्यागी नहीं है।

हत्या से दो से तीन घंटे बाद पुलिस का फोटो लेकर पहुंचना दर्शाता है कि गिरीश त्यागी को फंसाने की साजिश रची जा रही है। राजपाल त्यागी ने कहा कि लखनऊ की घटना के बाद अपनी सुरक्षा के लिए गिरीश ने अपना मोबाइल बंद कर लिया। राज पाल त्यागी ने कहा कि महीने भर बाद भी पुलिस के पास गिरीश त्यागी के खिलाफ एक भी सबूत नहीं है।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it