Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > गाजियाबाद > शराब ठेके के विरोध में महिलाओं का प्रदर्शन जारी, समर्थन में आई गाजियाबाद बार एसोसिएशन

शराब ठेके के विरोध में महिलाओं का प्रदर्शन जारी, समर्थन में आई गाजियाबाद बार एसोसिएशन

आप और कांग्रेसी भी प्रदर्शनकारियों को समर्थन देने पहुंचे

 Shiv Kumar Mishra |  8 Sep 2020 3:40 PM GMT  |  गाजियाबाद

शराब ठेके के विरोध में महिलाओं का प्रदर्शन जारी, समर्थन में आई गाजियाबाद बार एसोसिएशन
x

गाजियाबाद। बीती पांच अगस्त से विजयनगर के मुहल्ला भूड़ भारत नगर वार्ड नंबर-26 में शराब के ठेके को खोलने के विरोध में महिलाओं का प्रदर्शन चल रहा है। सोमवार को बार एसोसएिशन गाजियाबाद की ओर से भी महिलाओं के विरोध को जायज बताते हुए शासन-प्रशासन से ठेके को रिहायशी इलाके से शिफ्ट कराने की मांग की। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनील भगतजी ने कहा कि रिहायशी इलाके के साथ-साथ जिस जगह ठेका खोला गया है, वहां से कुछ ही दूरी पर धार्मिक स्थल मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और आर्य समाज है।

बावजूद इसके ठेके को वहां खोल देना नियमों का उलंघन है। उधर, सोमवार को महिलाओं के समर्थन में आम आदमी पार्टी की प्रदेश और स्थानीय ईकाई भी धरना स्थल पर पहुंची। आप की प्रदेश उपाध्यक्ष छवि यादव के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी के महानगर मीडिया प्रभारी शरदेंदु शर्मा सहति करीब आधा दर्जन लोगों ने मौके का जायजा लेकर कहा कि शराब का ठेका खोलने से पहले जांच करने वाले अफसरों को ठेका स्थल के पास बने धार्मिक स्थल और घनी आबादी का दिखाई न देना और इसे खोलने की अनुमति देना साफ ईशारा कर रहा है कि ये शराब का ठेका किसी रसूखदार का है या किसी नामचीन का इसमें संरक्षण है, तब ही मानकों और नियमों की अनदेखी करके इसे खोला गया है।

आप नेताओं ने प्रशासन से तत्काल ठेका हटवाने की मांग की। साथ ही मामले को लेकर शासन-प्रशासन से बात कर विरोध जताने का आश्वासन भी इलाके के लोगों को दिया। सोमवार को ही जिला कांग्रेस के उपाध्यक्ष आरिफ राजा भी मौके पर पहुंचे और अपना समर्थन इलाके के लोगों को देते हुए मामले को लेकर आंदोलन की बात कही। आरिफ ने कहा कि भगवान नाम और धर्म के नाम की राजनीति करने वालों के राज में ये हाल है कि धार्मिक स्थलों और रिहायशी इलाकों में ऐब की दुकानों को खोला जा रहा है। भविष्य में जनता को ये ध्यान रखना होगा कि जो सब्जबाग दिखाकर ये नकली धर्म के ठेकेदार सत्ता में आए, इनका क्या हश्र करना है। आरिफ के साथ अखिल, नदीम अली, आस मुहम्मद, सलाउद्दीन सैफी,बलराज चाबड़ा आदि मौजूद रहे ।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it