Top
Begin typing your search...

किसान क्रांति यात्रा में पहुंचते ही अजीत सिंह बेहोश, मेक्स अस्पताल में भर्ती

किसान क्रांति यात्रा में पहुंचते ही अजीत सिंह बेहोश, मेक्स अस्पताल में भर्ती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सैयद अली की रिपोर्ट

किसान आंदोलन ने देखते ही देखते उग्र रूप धारण कर लिया. दिल्ली सीमा पर लगी पुलिस ने आंसू गैस के गोले और टीजर गैस के गोले फेंके. इस दौरान पुलिस और किसानों में आपस लाठी भी चली. किसानों के उग्र रूप को देखकर प्रसाशन हलकान हो रहा था. देखते ही देखते तीन किसानों के घायल होने की खबर आग की तरह फ़ैल गई. इसकी जानकारी जैसे ही सरकार को मिली सरकार ने तुरंत किसानों की सात मांगें मान ली है.


उधर किसानों के घायल होने की खबर मिलते ही राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह अपनी जायज माँगों को लेकर आवाज उठा रहे किसानों पर अत्याचार और लाठीचार्ज व बल प्रयोग करने के खिलाफ यूपी गेट किसानों के बीच पहुँच रहे है.


किसान सभा मे पहुंचने के बाद अजित सिंह बेहोश हो गए. जिसके बाद उन्हें नजदीकी मेक्स अस्पताल ले जाया गया. वाटर कैनन व लाठीचार्ज में एक पत्रकार भी घायल हुए है. राहुल गाँधी ने तंज कसते हुए कहा किसानों पर बर्बरता से शुरू हुआ है BJP का गांधी जयंती समारोह, अब किसान अपनी बात कहने सरकार तक नहीं जायेंगे यह अब तक पहली बार हुआ है.


वहीं कुछ किसान संगठनो का कहना है कि यह आंदोलन बाक़ायदा चौ अजित सिंह व डा संजीव बालियान प्लान करा है. इसमे टिकैत बंधू बस एक हिस्सा मात्र है. क्योंकि 2019 मे संजीव बालियान को टिकट नही मिल रहा है. इसलिये संजीव बालियान इस पूरे आदोंलन मे ग़ायब है और चौ अजित सिंह व जयंत चौधरी भी ग़ायब है. अंतिम समय आकर अजीत सिंह सहानुभूति बटोरना चाहते है.


सरकार से मिली जानकारी के अनुसार अब तक किसान नेताओं से बात हुई है किसान अभी भी धरना स्थल यूपी गेट पर जमें हुये है. सरकार के नुमाइंदे का आने का इंतजार अभी बाकी है.


Special Coverage News
Next Story
Share it