Top
Begin typing your search...

शहादत की खबर मिलते ही पतला व आसपास पसरा सन्नाटा, एक पखवाड़े में क्षेत्र का दूसरा जवान वीरगति को प्राप्त

शहादत की खबर मिलते ही पतला व आसपास पसरा सन्नाटा, एक पखवाड़े में क्षेत्र का दूसरा जवान वीरगति को प्राप्त
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आकाश ठाकुर

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में शुक्रवार दोपहर बाबागुड़ इलाके में आतंकवादियों की घेराबंदी के दौरान हुई मुठभेड़ में मोदीनगर के कस्बा पतला निवासी जांबाज विनोद कुमार (35) स्वर्गीय चमन सिंह वीरगति को प्राप्त हो गए। जवान के शहीद होने की खबर मिलते ही परिजनों व आसपास के क्षेत्र में सन्नाटा पसर गया।

कस्बा पतला निवासी विनोद कुमार सीआरपीएफ 92 बटालियन में तैनात थे। उनकी पोस्टिंग जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में थी। शुक्रवार दोपहर वह कुपवाड़ा में अपने साथियों के साथ आतंकवादियों से लोहा ले रहे थे। उसी दौरान सीआरपीएफ के जवानों ने दो आतंकवादी मार गिराए। वहीं सीआरपीएफ के एक अधिकारी समेत पांच सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। इनमें विनोद कुमार भी शामिल थे। जवान के शहीद होने की खबर मिलते ही परिजनों व आसपास के क्षेत्र में सन्नाटा पसर गया।

शहीद विनोद कुमार अपने पीछे पत्नी नीतू, पुत्र अंश (9) व पुत्री एलिस उर्फ अनवी (6) को छोड़कर गए हैं। इनके अलावा परिवार में तीन भाई राजेंद्र, जोगेंद्र व पप्पू के अलावा बहन कुसुम व राजवती हैं। उनके घर पर गमजदा परिवार को सांत्वना देने वालों का तांता लगा है।

जम्मू कश्मीर के कूपवाड़ा जिले में सुरक्षाबलों ओर आतंकवादियों के बीच शुक्रवार को हुई मुठभेड़ में सीआरपीएफ के एक अधिकारी समेत पांच सुरक्षाकर्मियों के शहीद होने वालों में कस्बा पतला निवासी किसान स्व. चमन सिंह का बेटा विनोद कुमार भी है। विनोद चौधरी चरण सिंह इंटर कॉलेज का छात्र रहा है। इसी कॉलेज के अब तक दो छात्र शहीद हो चुके हैं। पुलवामा में शहीद हुए अजय की शहादत की चर्चा अभी थमी भी नहीं थी कि शुक्रवार की रात जब विनोद के शहीद होने की खबर उसके मूलत: गांव कस्बा पतला पहुंची तो गांव में सन्नाटा छा गया है। शनिवार श्याम शहीद का शव पहुंचने की संभावना को लेकर गांव में मातम का माहौल पसर गया है। शहीद के शव के इंतजार में जहां परिजनों की आश्रुपूरित आंखें टकटकी लगाए हुए हैं, वहीं शोक संतृप्त परिवार को लोग ढांढस बंधाने पहुंच रहे हैं।

Special Coverage News
Next Story
Share it