Top
Begin typing your search...

गोरखपुर में सड़क पर बिखरे 2000 और 500 के नोट देख लूटने के लिए कार-बाइक रोक कर टूट पड़े लोग

गोरखपुर में सड़क पर बिखरे 2000 और 500 के नोट देख लूटने के लिए कार-बाइक रोक कर टूट पड़े लोग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि अचानक से सड़क पर पैसों के गिरने से मौके पर लोगों की भीड़ सी लग गई. जिसे जो मिला उसे लेकर चलता बना.

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur) में ऑटो सवार व्यापारी के सड़क पर गिरे हजारों रुपयों को पब्लिक ने सरेआम लूट लिया. सड़क पर बिखरे पैसों को लूटने की राहगीरों में होड़ मच गई. कार सवार से लेकर साइकिल चालक तक अपने-अपने वाहन रोक कर नोटों को लूटने में जुट गए. वहीं, व्यापारी ने पैसों के सड़क पर गिरने पर पुलिस को लूट की सूचना दे डाली. हालांकि, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जब मामले की पड़ताल की तो पूरा माजरा सामने आ गया.

पुलिस का कहना है कि बैक में पैसा जमा करने के लिए व्यापारी का मुनीम ऑटो से गोरखनाथ एरिया में जा रहा था. मुनीम ने पॉलीथिन के थैले में 1,83,000 रुपये रख कर ले जा रहा था, जिनमें से 1,26,000 के नोट मुनीम की लापरवाही से सड़क पर गिर गए. बाकी का 57000 हजार उनके थैले में रह गए. सड़क पर बिखरे पैसों को लोगों द्वारा लूटता देख मुनीम ने अपना थैला चेक किया तो उसे अपनी गलती का एहसास हुआ, लेकिन तब तक 84 हजार रुपये गायब हो चुके थे. 42 हजार रुपये की बरामदगी पुलिस ने की है.

गोरखनाथ के थाना प्रभारी रामाज्ञा सिंह ने बताया कि गुलरिहा थाना के महाराजगंज बाजार के एक व्यापारी का मुनीम बैंक में पैसा जमा करने आया था. ऑटो में बैठने के दौरान अचानक से उनके पास रखे पैसे गिरकर सड़क पर बिखर गए. देखते ही देखते उन पैसों को लूटने की लोगों में होड़ मच गई.

लूट की सूचना पर अटकीं पुलिस की सांसें

प्रत्यक्षदर्शी संजय का कहना है कि अचानक से सड़क पर पैसों के गिरने से मौके पर लोगों की भीड़ सी लग गई. जिसे जो मिला उसे लेकर चलता बना. संजय ने बताया कि क्या कार वाले, क्या बाइक वाले और क्या साइकिल वाले, जिसे देखो वह गाड़ी रोक कर नोट लूटने में जुट गया. उन्‍होंने बताया कि हमने सड़क पर 50 से लेकर 100, 200, 500, 2000 के नोट देखे. जिसके हाथ जो आया, वो लेकर चलता बना. प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक लूट जैसी कोई वारदात नहीं हुई थी, लेकिन व्यापारी के मुनीम ने अचानक से पैसों के गिरने की घटना होने पर पुलिस को फर्जी लूट की सूचना देकर पुलिस की सांस अटका दी.

Next Story
Share it