Top
Begin typing your search...

हमीरपुर में CM योगी आदित्यनाथ ने टॉपर्स को दिए थे चेक, डिपोजिट कराने पर हुए बाउंस

हमीरपुर जनपद के कस्बा राठ के 6 मेधावी छात्र-छात्राओं को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Aditya Nath) द्वारा सम्मानित किया गया था.

हमीरपुर में CM योगी आदित्यनाथ ने टॉपर्स को दिए थे चेक, डिपोजिट कराने पर हुए बाउंस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हमीरपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने लखनऊ (Lucknow) में प्रदेश के मेधावी छात्रों का 1 सितंबर को सम्मान समारोह आयोजित किया था. इसमें छात्रों को टेबलेट, मेडल, प्रशस्तिपत्र और 21-21 हजार रुपये का चेक दिया गया था. इस सम्मान समारोह में कई जिलों के मेधावी छात्र सम्मिलित हुए थे. इसमें हमीरपुर जिले के भी 6 छात्र सम्मानित हुए थे, लेकिन इनको मिला चेक बाउंस हो गया है. छात्र मुख्यमंत्री के द्वारा दी गई चेक के बाउंस होने से हतोत्साहित हैं. उनका कहना है कि मुख्यमंत्री जी स्वयं मामले का संज्ञान लें और लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करें.

पूरा मामला हमीरपुर जनपद के कस्बा राठ का है. जहां के 6 मेधावी छात्र-छात्राओं को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सम्मानित किया था और 21-21 हजार रुपये का चेक दिया था. जब ये छात्र अब चेक भुनाने गए तो वे बाउंस हो गए.

चेक बाउंस होने की बताई ये वजह

कस्बा राठ के चित्रगुप्त इंटर कॉलेज के तीन छात्र अनिल, रीतेन्द्र व ब्रजेंद्र, सरस्वती बाल मंदिर इंटर कॉलेज के दो छात्र दिलीप और अंकित और सरस्वती बालिका मंदिर स्कूल की छात्रा हर्षिता साहू को 1 सितंबर को लखनऊ में मुख्यमंत्री द्वारा सम्‍मानित किया गया था, लेकिन जब छात्रों ने चेक को अपने-अपने खातों में डिपोजिट किया तो बाउंस होने का मैसेज आया. इसके बाद जब छात्र बैंक गए और जानकारी की तो उन्हें डीआईओएस के हस्ताक्षर में मिलान न होने की वजह बताई गई. इससे छात्र मायूस हो गए.

कार्रवाई की मांग

छात्रों ने कहा कि वह मुख्यमंत्री जी से कहना चाहेंगे कि वह स्वयं मामले को संज्ञान में लें और लापरवाहों के खिलाफ कार्यवाई करें. जिससे उनका सम्मान बना रहे और छात्रों का उत्साह बना रहे. वहीं, जब पूरे मामले के बारे में एसबीआई (राठ) के मैनेजर ने बताया कि तकनीकी वजहों से ऐसा हुआ था, अब उसे दूर कर लिया गया है.

Special Coverage News
Next Story
Share it