Top
Breaking News
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > हमीरपुर > हमीरपुर: हनी ट्रैप गैंग का भंडाफोड़, रईसों और सफ़ेदपाशों को इस तरह बनाया जाता था शिकार

हमीरपुर: हनी ट्रैप गैंग का भंडाफोड़, रईसों और सफ़ेदपाशों को इस तरह बनाया जाता था शिकार

2 साल पहले भी इसी गैंग के सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था और 8 लाख रुपये से ज्यादा की बरामदगी की थी.

 Shiv Kumar Mishra |  16 Jan 2020 6:30 AM GMT  |  हमीरपुर

हमीरपुर: हनी ट्रैप गैंग का भंडाफोड़, रईसों और सफ़ेदपाशों को इस तरह बनाया जाता था शिकार

हमीरपुर. यूपी के हमीरपुर (Hamirpur) जिले में बुधवार को पुलिस (Police) ने एक हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप गैंग (Honey trap Gang) का खुलासा कर सबको हैरत में डाल दिया. इस गैंग ने पीडब्ल्यूडी के वरिष्ठ लिपिक का अश्लील वीडियो बनाकर 20 लाख रुपयो की वसूली की थी. इस गैंग के सदस्य लोगों को घर बुलाकर उनका अश्लील वीडियो बनाकर अवैध वसूली करते थे. पुलिस (Police) ने गैंग के 2 सदस्यों के पास से 2 मोबाइल, 15 सिम कार्ड और 1.5 लाख रुपये नगद भी बरामद किए हैं. 2 साल पहले भी इसी गैंग के सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था और 8 लाख रुपये से ज्यादा की बरामदगी की थी.

रिटायर्ड कर्मचारियों को बनाते थे निशाना

पुलिस के हत्थे चढ़े एक महिला और पुरुष हनी ट्रैप गैंग के मास्टर माइंड हैं, जिन्होंने उन लोगों को शिकार बनाया जो आर्थिक रूप से मजबूत हैं या फिर समाज में अपनी प्रतिष्ठा के लिए जाने जाते हैं. इस गैंग में लड़कियों के साथ लड़के भी काम करते हैं जो सरकारी रिटायर कर्मियों को अपना निशाना बनाकर उनसे धन वसूली करते हैं. ये लड़कियां पहले पैसे से मजबूत शिकार को ढूंढती हैं, फिर उनसे बात करने का प्रयास करती हैं. फिर उनके साथ शारीरिक संबंध बनाकर शुरू होता है ब्लैकमेल करने का खेल. ये लड़कियां पहले इनसे पैसे की डिमांड लाखों में करती हैं. जब वो पैसे देने से मना कर देता है तो उसे गैंगरेप जैसे झूठे आरोपों में फंसा देती हैं.

कई दर्जन लोगों को बनाया शिकार

इस गैंग ने अब तक कई दर्जन लोगों को अपना शिकार बनाया है और उन्हें झूठे केस में फंसाया. इस बार गैंग ने पीडब्लूडी के एक वरिष्ट लिपिक को अपना निशाना बनाया. महिला ने उसे पहले अपने घर आरडी खुलवाने के बहाने बुलाकर शारीरिक संबंध बनाये फिर उसका वीडियो भी बना लिया. फिर वीडियो के सहारे ब्लैक मेल कर उससे 20 लाख रुपए वसूल लिए.

पहले भी हो चुके हैं गिरफ्तार

मामला हमीरपुर जिले के सुमेरपुर थाना कस्बे का है, जहां सोमवती और संजय हनी ट्रैप गैंग संचालित कर रहे थे. पहले यह सरकारी रिटायर्ड कर्मियों से मिलकर मेल जोल बढाते थे फिर उनसे गैंग की महिलाओं या लड़कियों से अवैध संबंध बनवाकर उनका वीडियो बनाते थे. फिर ब्लैकमेल कर लाखों की काली कमाई करते . इससे पहले भी यह महिला मौदहा कोतवाली कस्बे में रहने वाले ताहिर हुसैन नमक रिटायर रोडवेज कर्मी से 8 लाख रुपये वसूलते हुए गिरफ्तार हो चुकी है. जेल से बाहर आते ही फिर इन्होंने पीडब्लूडी के वरिष्ट लिपिक को निशाना बनाकर पैसे ऐंठे. इससे परेशान होकर लिपिक ने आत्महत्या की कोशिश की, लेकीन परिजनों ने बचा लिया. जिसके बाद एसपी से की जिसके बाद एसपी से शिकायत की गई. क्राइम ब्रांच की टीम ने पूरे मामले का खुलासा करते हुए इस हनी टैपिंग गैंग का खुलासा कर दिया. एएसपी संतोष कुमार ने बताया कि इस गैंग के चंगुल में कई और सफेदपोश लोगों के फंसे होने की आशंका है, जिसकी जांच भी अब पुलिस कर रही है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it