Top
Begin typing your search...

हाथरस केस : चारों आरोपियों का होगा पॉलीग्राफी टेस्ट, गुजरात लेकर गई CBI टीम

अलीगढ़ जेल अधीक्षक आलोक कुमार ने सीबीआई टीम द्वारा चारों आरोपियों को पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए गुजरात के गांधी नगर ले जाने की पुष्टि की है.

हाथरस केस : चारों आरोपियों का होगा पॉलीग्राफी टेस्ट, गुजरात लेकर गई CBI टीम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

देश के बहुचर्चित हाथरस केस के चारों आरोपियों का सीबीआई (CBI) टीम अब पॉलीग्राफी टेस्ट (polygraphy test) करा रही है. कोर्ट से पॉलीग्राफी टेस्ट की परमिशन मिलने के बाद सीबीआई की टीम शनिवार दोपहर अलीगढ़ जेल पहुंची. सीबीआई टीम जेल में बंद हाथरस केस के चारों आरोपियों को अपने साथ लेकर पॉलीग्राफ टेस्ट कराने के लिए गुजरात (Gujarat) के गांधीनगर के लिए रवाना हो गई. अलीगढ़ जेल अधीक्षक आलोक कुमार ने सीबीआई टीम द्वारा चारों आरोपियों को पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए गुजरात के गांधी नगर ले जाने की पुष्टि की है.

बता दें कि हाथरस केस की जांच कर रही सीबीआई टीम 25 नवंबर को कोर्ट में जांच स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेगी. कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल करने से पहले सीबीआई टीम ने अपनी जांच तेज कर दी है. सीबीआई टीम ने आरोपियों के खिलाफ पुख्ता और कड़े सबूत हासिल करने के लिए अब अलीगढ़ जेल में बंद हाथरस केस के चारों आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट करा रही है.

पीड़िता के परिवार और परिचितों से कर चुकी है पूछताछ

याद होगा कि सीबीआई टीम 19 नवंबर को फिर पीड़िता के गांव पहुंची थी. सीबीआई ने बुधवार को छोटू को कैंप ऑफिस में बुलाकर पूछताछ की थी. अब तक सीबीआई पीड़ित परिवार, गांव वालों, आरोपियों के परिवार और आरोपियों से पूछताछ कर चुकी है.

दोबारा होगी पुलिस से पूछताछ

अब सीबीआई इस मामले में पुलिस अधिकारियों से फिर पूछताछ करने वाली है. इसके अलावा सीबीआई निलंबित एसपी विक्रांत वीर और एसडीएम पीपी मीना से भी पूछताछ करेगी. इन सभी से पीड़िता के परिवार द्वारा लगाए गए आरोप को लेकर पूछताछ होनी है. सीबीआई, पीड़िता के अंतिम संस्कार के मामले में मिले साक्ष्यों और परिवार वालों के बयानों के आधार पर इन लोगों से पूछताछ करेगी. बताया जा रहा है कि सीबीआई ने पीड़ित परिवार के रिश्तेदारों से भी उनके घर जाकर मामले की जानकारी हासिल की है. सीबीआई पीड़ित परिवार का भी लाई डिटेक्टर टेस्ट करना चाहती है, मगर परिवार इसके लिए तैयार नहीं हैं.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it