Top
Begin typing your search...

विकास दुबे के खजांची जय बाजपेयी के भाइयों ने कोर्ट में किया सरेंडर

विकास दुबे के खजांची जय बाजपेयी के भाइयों ने कोर्ट में किया सरेंडर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर से अब एक बड़ी खबर आ रही है. जहां विकास दुबे के खजांची जय बाजपेई के तीनों भाइयों शोभित, रजय और अजय कांत बाजपेई ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है. कानपुर कोर्ट के एडीजी 5 में जय बाजपेई के तीनों भाइयों ने सरेंडर किया है. कानपुर पुलिस ने जय वाजपेई के तीनों भाइयों शोभित, रजय और अजय कांत बाजपेई केके खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत 25000 25000 का इनाम घोषित कर रखा था.

2 दिन पहले नसीराबाद पुलिस ने एसएसपी के आदेश के बाद उनके घर के बाहर दूदू की पिटाई थी जय वाजपेई के भाई इस घटना के बाद कई दिनों से फरार चल रहे थे. पुलिस ने उनके घर के कुर्की के आदेश दिए थे. इन सब बातों से भयभीत होकर जय वाजपेई के तीनों भाइयों ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया लेकिन कानपुर पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने में नाकाम रही.

विकास दुबे के करीबी जयकांत वाजपेयी उर्फ जय वाजपेयी पर शिकंजा कसता जा रहा है. पुलिस ने जय वाजपेयी और उसके तीन भाइयों पर गैंगस्टर की कार्रवाई की है. इन पर गिरोह बनाकर अपराध करने और अवैध संपत्ति इकट्ठा करने का आरोप लगा है. चारों के खिलाफ कानपुर के नजीराबाद थाने में गैंगस्टर की कार्रवाई की गई है.

पुलिस का कहना है कि जय वाजपेयी अपने साथियों के साथ मिलकर सरकारी जमीन पर कब्जा करने के साथ ही गाली-गलौज और मारपीट करके अपने और अपने गैंग के सदस्यों के आर्थिक और भौतिक लाभ के लिए धन अर्जित कर समाज विरोधी काम करता था. इलाके में जय वाजपेयी का भय और आतंक है.

जय बाजपेई की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसके तीन भाई शोभित, रजय और अजय कांत बाजपेई के आपराधिक इतिहास को खंगाला गया तो कई मामलों में वांछित मिले। इसके बाद उन पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई करते हुए गिरफ्तारी के आदेश दिए गए। जिसके बाद से नजीराबाद पुलिस जय बाजपेई के भाइयों की तलाश में ब्रह्मनगर, बजरिया व हर्षनगर स्थित तीनों मकानों के अलावा करीबियों के यहां दबिश दे रही थी। लेकिन सफलता नहीं मिली।

जय बाजपेई की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसके तीन भाई शोभित, रजय और अजय कांत बाजपेई के आपराधिक इतिहास को खंगाला गया तो कई मामलों में वांछित मिले। इसके बाद उन पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई करते हुए गिरफ्तारी के आदेश दिए गए। जिसके बाद से नजीराबाद पुलिस जय बाजपेई के भाइयों की तलाश में ब्रह्मनगर, बजरिया व हर्षनगर स्थित तीनों मकानों के अलावा करीबियों के यहां दबिश दे रही थी। लेकिन सफलता नहीं मिली।


Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it