Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > कानपुर > आईपीएस सुरेंद्र दास का सेवेन लाइन लेटर, परेशान होकर यह कदम उठा रहा हूं, रवीना आई लव यू...

आईपीएस सुरेंद्र दास का 'सेवेन लाइन लेटर', 'परेशान होकर यह कदम उठा रहा हूं', 'रवीना आई लव यू'...

 Special Coverage News |  6 Sep 2018 5:39 AM GMT  |  कानपुर

आईपीएस सुरेंद्र दास का सेवेन लाइन लेटर, परेशान होकर यह कदम उठा रहा हूं, रवीना आई लव यू...
x

कानपुर एसपी पूर्वी के पद पर तैनात आईपीएस सुरेंद्र कुमार दास ने बुधवार सुबह कैंट स्थित सरकारी आवास में जहर खा लिया। हालत बिगड़ने पर परिजन और मातहत पुलिसकर्मी उन्हें उर्सला ले गए। वहां से डॉक्टरों ने उन्हें सर्वोदय नगर स्थित रीजेंसी अस्पताल रेफर कर दिया। डॉक्टरों ने उनकी हालत नाजुक बताई है। एडीजी, एसएसपी समेत तमाम पुलिस और प्रशासनिक अफसरों ने अस्पताल पहुंचकर सुरेंद्र कुमार का हालचाल लिया। देर रात तक अस्पताल में प्रदेश भर के आईपीएस अफसर सुरेंद्र कुमार का हालचाल जानते रहे।




पत्नी ने घर में कराईं थीं उल्टियां :

एसएसपी के आदेश पर सीओ कैंट के साथ फोरेंसिक टीम ने शाम को एसपी पूर्वी के आवास की जांच की। टीम ने उनके बेडरूम में पड़ी उल्टी के सैंपल लिए, जिन्हें जांच के लिए लैब भेजा है। कुछ साक्ष्य जुटाने के बाद टीम ने एसपी के बेडरूम को सील कर दिया है। एक्सपर्ट का मानना है कि एसपी पूर्वी की पत्नी रवीना खुद भी डॉक्टर हैं। पति के जहर खाने का पता चला तो उन्होंने असर कम करने के इरादे से पति को कई उल्टियां भी कराई थीं। जब हालत में सुधार नहीं हुआ तो अस्पताल ले गईं। पुलिस ने अघोषित तरीके से आवास को अपनी निगरानी में ले लिया है। वहां पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।




उस वक्त उनकी आंखों से आंसू छलक रहे थे :

सुरेंद्र कुमार का हाल जानने कई बैचमेट भी अस्पताल पहुंचे। आईपीएस चारू निगम, विक्रम कुमार, पूजा समेत कई अफसर अपने-अपने तैनाती जिले से यहां आए। उन्होंने दिल्ली और मुंबई के डॉक्टरों से उनकी तबियत के बारे जानकारी देकर इलाज के बारे में मशविरा किया। सभी अफसरों का कहना है कि सुरेंद्र कुमार का व्यवहार और स्वभाव काफी अच्छा है। शाम को सुरेंद्र की पत्नी डॉ.रवीना अस्पताल से बाहर निकलीं और सरकारी गाड़ी में बैठ कर चलीं गईं। उस वक्त उनकी आंखों से आंसू छलक रहे थे। कुछ देर बाद वह फिर लौटकर अस्पताल आ गईं।




असिस्टेंट डायरेक्टर भी रहे ससुर :

सुरेंद्र कुमार के ससुर डॉ. रामेंद्र सिंह ईएसआई निदेशालय में असिस्टेंट डॉयरेक्टर भी रहे। ईएसआई के डॉयरेक्टर डॉ. एसएमए रिजवी का कहना है कि डॉ. रामेंद्र को असिस्टेंट डायरेक्टर पद पर पदोन्नति मिली थी। 2015 में सरकार ने उन्हें रिवर्ट कर मेडिकल ऑफीसर बना दिया।


इस बारे मां इंदू ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया :

सुरेंद्र कुमार ने जहर खाने की खबर पाकर उनके भाई नरेंद्र, भाभी सुनीता और मां इंदू अस्पताल पहुंचे। अस्पताल में वेंटीलेटर पर सुरेंद्र कुमार को देखकर परिजन फफक पड़े। सुरेंद्र ने किन घरेलू कारणों से जहर खाया, इस बारे मां इंदू ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया।




आईपीएस सुरेंद्र का लेटर मिला, होगी फोरेंसिक जांच :

आईपीएस सुरेंद्र कुमार का लिखा एक पत्र मिला है। इस बात की पुष्टि एसपी पश्चिम संजीव सुमन ने की है। एसपी के मुताबिक पत्र में लिखा है कि मेरे जहर खाने के पीछे किसी का दोष नही है। रोज-रोज के छोटी-छोटी बातों को लेकर घरेलू झगड़ों से परेशान होकर यह कदम उठा रहा हूं। सात लाइन के लिखे पत्र में रवीना आई लव यू भी लिखा है। पत्र में और बातें लिखी हैं,एसपी का कहना पत्र को हैंड राइटिंग एक्सपर्ट के पास जांच के लिए भेजा जाएगा। एडीजी ने इतना जरूर कहा है कि आईपीएस सुरेंद्र कुमार ने पारिवारिक कलह केचलते यह कदम उठाया है।



घटना कैसे हुई, कारण क्या रहा, उन्हें नहीं मालूम :

लखनऊ में रहने वाले आईपीएस सुरेंद्र कुमार के बड़े भाई नरेंद्र कुमार दास ने बताया कि सुरेंद्र शादी के बाद घर बहुत कम आते हैं। सुरेंद्र जब घर आते थे तो उनकी पत्नी डॉ.रवीना साथ नहीं आती थीं। बुधवार सुबह आठ बजे पुलिस ने फोन कर सुरेंद्र के जहर खाने की जानकारी दी। इसके बाद वह पत्नी सुनीता, बेटों गौरव व वरुण और मां इंदू के साथ सीधे रीजेंसी अस्पताल आए। घटना कैसे हुई, कारण क्या रहा, उन्हें नहीं मालूम। यह जरूर पता चला है कि सुरेंद्र और उनकी पत्नी डॉ. रवीना में कुछ विवाद हुआ था। सुरेंद्र ने जहर खाया या उसे खिलाया गया। इस बारे में वह कुछ नहीं बता सकते हैं। पुलिस को इस बारे में जांच करनी चाहिए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it