Top
Begin typing your search...

कानपुर : किडनेपिंग के बाद मर्डर केस में CM योगी का बड़ा एक्शन, IPS अपर्णा गुप्ता समेत 4 अफसर सस्पेंड

कानपुर में लैब-टेक्निशन की किडनेपिंग के बाद हत्या मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा एक्शन लिया है.

कानपुर : किडनेपिंग के बाद मर्डर केस में CM योगी का बड़ा एक्शन, IPS अपर्णा गुप्ता समेत 4 अफसर सस्पेंड
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर : कानपुर में लैब-टेक्निशन की किडनेपिंग के बाद हत्या मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा एक्शन लिया है. कानपुर में तैनात अपर पुलिस अधीक्षक दक्षिण कानपुर नगर आईपीएस अपर्णा गुप्ता, तत्कालीन सीओ मनोज गुप्ता, पूर्व एसओ थाना बर्रा रंजीत राय और चौकी इंचार्ज राजेश कुमार को सस्पेंड कर दिया गया है.

लैब असिस्टेंट संजीत यादव का पहले अपहरण होता है. पुलिस के भरोसे पर परिवार गहने-जेवर बेचकर 30 लाख की फिरौती जुटाता है. 30 लाख की फिरौती भी दे दी जाती है, लेकिन पुलिस अगवा युवक को बचा नहीं पाती और उसकी हत्या हो जाती है.

संजीत यादव की बहन का आरोप है कि थानेदार से लेकर पुलिस अफसर तक सभी भाई की मौत के जिम्मेदार हैं. वहीं, पुलिस के मुताबिक अपहरण की साजिश में संजीत के ही कुछ दोस्त शामिल थे. पुलिस ने कुछ आरोपियों को गिरफ्तार कर मीडिया के सामने पेश किया. दो आरोपी महिलाओं में से भी एक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस के मुताबिक, 26 जून को अपहृत संजीत यादव ने भागने की कोशिश की थी, तभी अपहरणकर्ताओं ने गला दबाकर हत्या की और 27 जून को संजीत का शव नहर में फेंक दिया. गिरफ्तारी के बाद आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है. आरोपियों ने बताया कि वो फिरौती मिलने के बाद संजीत को छोड़ने वाले थे लेकिन संजीत ने भागने की कोशिश की.

पुलिस के अनुसार, संजीत यादव के भागने की कोशिश के कारण आरोपियों ने उसकी हत्या कर दी. हालांकि, पुलिस ने फिरौती दिए जाने से इनकार किया है, जबकि परिवार का आरोप है कि हमने 30 लाख रुपये की फिरौत दी थी, जिसके बाद भी संजीत की हत्या कर दी गई.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it