Top
Begin typing your search...

कानपुर में देवर की आत्महत्या के तीन दिन बाद भाभी ने भी लगाया मौत को गले

कानपुर में देवर की आत्महत्या के तीन दिन बाद भाभी ने भी लगाया मौत को गले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर.यूपी के कानपुर में चकेरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत पब्जी गेम खेलते हुए आत्महत्या करने वाले सुरेंद्र की मौत के बाद उसकी भाभी आरती (25) ने भी फंदे से लटक कर जान दे दी. परिजनों का कहना है कि दोनों के बीच काफी समय से प्रेम- प्रसंग चल रहा था. इसी वजह से सुरेंद्र परिवार से अलग रहता था. सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आरती का शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

पबजी गेम खेलते हुए आत्महत्या की बात आई थी सामने

चकेरी के गिरजानगर निवासी सुरेंद्र (28) चकेरी के ही एक टेंट हाउस पर काम करता था. रविवार को वह दोस्त के साथ पबजी गेम खेलते हुए फंदे से लटक गया था. तब खबरों में ये बात आ रही थी कि युवक ने पबजी खेलते हुए फांसी लगा ली. जब सुरेंद्र की मौत की खबर घरवालों को मिली तो उसकी भाभी आरती बेसुध हो गयी थी. उसके बाद आरती ने भी कमरे में साड़ी के फंदे से पंखे के सहारे लटक कर आत्महत्या कर ली. इस पर पुलिस भी सकते मे आ गई और मामले की जांच में जुट गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

देवर से बताया जा रहा प्रेम-प्रसंग का मामला

पूछताछ में पता चला कि सुरेंद्र छह भाईयों में पांचवें नंबर का था. उसका बड़े भाई महेंद्र की पत्नी आरती से करीब तीन साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था. ऐसा कई परिजनों व इलाके के रहने वालों का कहना है. वहीं आई जी मोहित अग्रवाल के मुताबिक आत्महत्या की गुत्थी उलझ गई है. इसकी जांच की जा रही है और कई लोगो से पूछताछ की जाएगी. साथ ही दोस्त व करीबियों से भी पूछताछ कर सच्चाई सामने लायी जाएगी. अब तक जिस तरह से जांच की जा रही है उसमें ये बात सामने आई है कि परिवार में अनबन चल रही थी. इसका विरोध हुआ तो सुरेंद्र सबसे अलग कर्मचारी नगर में किराए पर कमरा लेकर रहने लगा था. आरती अक्सर उससे मिलने आया करती थी जिसकी वजह से बड़े भाई महेंद्र का सुरेंद्र से आए दिन विवाद होता था. जिससे वह दोनों तनावग्रस्त रहते थे.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it