Top
Begin typing your search...

विधायक अशोक चंदेल की हत्या की साजिश का यूपी एसटीएफ ने किया पर्दाफाश

विधायक अशोक चंदेल की हत्या की साजिश का यूपी एसटीएफ ने किया पर्दाफाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर के रहने वाले हमीरपुर की सदर विधानसभा से बाहुबली विधायक अशोक चंदेल की हत्या की साजिश रचने का यूपी एसटीएफ ने पर्दाफाश किया है. सुबह भाजपा नेता के करीबी को एसटीएफ ने उठाया. इसके बाद भारी पुलिस बल के साथ सीओ सदर के नेतृत्व में भाजपा नेता के घर छापेमारी की गई.

करीब चार घंटे चली इस छापेमारी के बाद पुलिस को भाजपा नेता के घर से दो अवैध असलहा बरामद हुए. हालांकि मामला हाईप्रोफाइल होने के कारण देर शाम तक पुलिस के आलाधिकारी इस मामले पर कुछ भी कहने से कतराते रहे.

जानकारी के मुताबिक गुरुवार को वाराणसी में एसटीएफ ने दुर्दांत अपराधी विकास सिंह गोड़े के गैंग के 50 हजार रुपये के इनामी चंदन सोनकर समेत चार अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में इसका खुलासा हुआ. गिरफ्तार अपराधियों से मिली जानकारी के आधार पर गुरुवार को सुबह एसटीएफ ने हमीरपुर जिला मुख्यालय के रमेड़ी मोहल्ले से भाजपा नेता राजीव शुक्ला के करीबी अजय कुमार उर्फ हड्डी को गिरफ्तार किया.


हाईकोर्ट से आना है फैसला, उलझाने के लिए रचा गया षड्यंत्र

भाजपा नेता राजीव शुक्ला ने बताया कि विधायक अशोक चंदेल ने अपने साथियों के साथ मिलकर उनके भाइयों और भतीजे की हत्या कर दी थी. इसका मुकदमा हाई कोर्ट में चल रहा है। दो माह बाद फैसला आना है। इससे परेशान होकर सदर विधायक ने पुलिस अधीक्षक से मिलकर उन्हें फंसाने का षड्यंत्र रचा है. बसपा शासन में भी उन्हें विधायक ने सत्ता पक्ष का लाभ लेकर परेशान किया था.

दबिश के दौरान असलहा जब्ती के वक्त चली गोली

सीओ सदर आरके उपाध्याय के नेतृत्व में पुलिस जब भाजपा नेता राज राजीव शुक्ला के घर का चप्पा-चप्पा खंगालने में जुटी थी. उसी दौरान अचानक फायरिंग की आवाज सुनाई देने से इलाकाई लोगों में हडकंप मच गया. हालांकि फायरिंग की बात पर सीओ सदर ने कहा कि घर में लोड असलहा रखा था, जिससे पुलिसकर्मी की लापरवाही की वजह से फायरिंग हो गई.

स्थानीय पुलिस साधे रही चुप्पी

भाजपा नेता के घर पुलिस दबिश की कार्रवाई पर जिले के पुलिस आलाधिकारी खासा दबाव में दिखे. देर शाम तक घटना के बारे में किसी ने भी स्पष्ट जवाब नहीं दिया. राजीव शुक्ला के घर दबिश के दौरान घर में महिलाओं के अलावा कोई और मौजूद नहीं था.

Special Coverage News
Next Story
Share it