Top
Begin typing your search...

विकास दुबे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने भी खोला एनकाउंटर का राज!

रिपोर्ट में विकास दुबे के शरीर पर 10 जख्म का जिक्र है, जिसमें से 6 गोलियों के हैं, जबकि अन्य चार भागते वक्त गिरने की वजह से लगे हो सकते हैं.

विकास दुबे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने भी खोला एनकाउंटर का राज!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट हैम्रेज और शॉक मौत की वजह की वजह सामने आई है. 10 जुलाई की सुबह एनकाउंटर में मारे गए कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है. इसके मुताबिक, गाड़ी पलटने के बाद भागने की कोशिश में विकास दुबे ने एसटीएफ से सामने-सामने मुकाबला किया था. इस मुठभेड़ में विकास दुबे के शरीर से तीन गोलियां आर-पार हो गई थीं. रिपोर्ट में विकास दुबे के शरीर पर 10 जख्म का जिक्र है, जिसमें से 6 गोलियों के हैं, जबकि अन्य चार भागते वक्त गिरने की वजह से लगे हो सकते हैं.

दाहिने कंधे से एक और सीने में बाईं तरफ आर-पार हुई थी दो गोलियां

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, विकास दुबे के दाहिने कंधे और सीने में बाईं तरफ से दो गोलियां आर पार हुई थीं. इसके अलावा तीन गोलियों के एंट्री पॉइंट मिले हैं. लिहाजा विकास दुबे को एनकाउंटर में 6 गोलियां लगी थीं. हालांकि, रिपोर्ट में इस बात का जिक्र नहीं है कि गोली कितनी दूरी से मारी गई, लेकिन पोस्टमार्टम से एक बात तो साफ हो रही है कि उसने एसटीएफ से मुकाबला किया था, क्योंकि सभी गोली की एंट्री पॉइंट सामने से है. इसके अलावा भागने के दौरान गिरने से हुए जख्‍म की बात कही जा रही है.

मौत की वजह हैम्रेज और शॉक को बताया

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह गोली लगने के बाद हैम्रेज और शॉक को बताया गया है. साथ ही कहा गया है कि गोलियों से हुई इंजुरी मौत के लिए काफी थी. गौरतलब है कि उज्जैन से गिरफ़्तारी के बाद कानपुर लाते वक्त भौती हाईवे पर पुलिस मुठभेड़ में विकास दुबे को एसटीएफ ने मार गिराया था. विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर सवाल भी खड़े हुए और मामला सुप्रीम कोर्ट में है. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट अहम सुनवाई करेगा. याचिका में विकास दुबे के एनकाउंटर के तौर-तरीकों पर सवाल उठाए गए हैं.




Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it