Home > नई साल पर कौशाम्बी में अनौखा प्रयोग, इस तरह लायेंगे एक्सीडेंट में कमी

नई साल पर कौशाम्बी में अनौखा प्रयोग, इस तरह लायेंगे एक्सीडेंट में कमी

 शिव कुमार मिश्र |  2018-01-02 06:25:13.0  |  कौशाम्बी

नई साल पर कौशाम्बी में अनौखा प्रयोग, इस तरह लायेंगे एक्सीडेंट में कमी

जिले मे बढ़ते सड़क हादसों मे कमी लाने के लिए जिले के कई समाज सेवियों ने नए साल के पहले दिन गांधीगिरी का रास्ता अपनाया| सामाजिक कामों से जुड़े कई लोगो ने पुलिस वालों के साथ सिराथू क्षेत्र के विभिन्न चौराहा व प्रमुख स्थानों पर खड़े होकर बिना हेलमेट व सीट बेल्ट लगाए वाहन चालकों को गुलाब का फूल देकर उनसे हेलमेट लगाने व सीट बेल्ट लगाने का अनुरोध किया. खाकी वर्दी धारियों व खादी कुर्ते वालों को गांधीगिरी करते देख वाहन चालकों ने उन्हे यातायात नियमों का पालन करने को आश्वस्त किया. गांधीगिरी करने वाले समाज सेवियों का कहना है कि उनके इस पहल से वाहन चालक यातायात नियमों का पालन करेंगे तो दुर्घटनाओं मे कमी आएगी.

प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के गृह नगर सिराथू के सैनी चौराहा पर समाजसेवी अरुण केसरवानी के साथ कई युवक व सैनी कोतवाली पुलिस ने पिछले कई दिनों से लगातार हो रहे सड़क हादसों मे कमी लाने के लिए गांधीगिरी करना शुरू कर दिया. खाकी वर्दी धारी व खद्दर धारी समाजसेवियों को अचानक गुलाब का फूल हाथ मे लेकर सड़क किनारे खड़े देख लोग चकित रह गए.

सड़क से गुजरने वाले बिना हेलमेट लगाए दो पहिया वाहन चालक व बिना सीट बेल्ट लगाए चार पहिया वाहन चालकों को गुलाब का फूल देकर पुलिस कर्मी व समाजसेवी ने अनुरोध किया कि आगे से वह यातायात नियमों का पालन कराते हुये गाड़ी चलायें. समाज सेवियों व पुलिस की सयुक्त टीम ने सैनी, टेढ़ीमोड, देवीगंज व कड़ा मे गांधीगिरी करते हुये वाहन चालकों को गुलाब का फूल देकर यातायात नियमों का पालन करने की विनती करते दिखे.

गांधीगिरी करने वाले समाजसेवियो व पुलिस कर्मियों का कहना है कि आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं. सड़क हादसे मे किसी की जान जाती है तो कोई कोई गंभीर रूप से घायल हो जाता है. गांधीगिरी करने वालों का मानना है कि सड़क हादसों का सबसे बड़ा कारण यातायात नियमों का न मानना है. इनका कहना है कि समाज मे जागरूकता के माध्यम से सड़क हादसों मे कमी लाई जा सकती है. इस काम के लिए समाजसेवियों ने साल के पहले दिन शुरुआत किया.

Tags:    
Share it
Top