Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > एडीजी विनोद कुमार सिंह के एक आदेश से पुलिसकर्मी ख़ुशी से झूम उठे

एडीजी विनोद कुमार सिंह के एक आदेश से पुलिसकर्मी ख़ुशी से झूम उठे

 Special Coverage News |  17 Jan 2019 3:52 AM GMT

एडीजी विनोद कुमार सिंह के एक आदेश से पुलिसकर्मी ख़ुशी से झूम उठे
x

अगर आप पीएसी में नौकरी करते हैं और रौबीली मूंछ रखने का शौक रखते हैं तो यह आपके लिए सबसे बड़ी खुशखबरी है. दरअसल रोबदार मूंछे रखने वाले पीएसी कर्मियों को अब हर महीने ढाईसौ तक की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. अभी तक उन्हें नीचे रखने के बदले में रखरखाव के लिए महज ₹50 महीने मिल रहे थे.सभी 33 बटालियन में यह व्यवस्था को लागू करने के लिए अपर पुलिस महानिदेशक विनोद कुमार सिंह ने सर्कुलर जारी कर दिया है


कुंभ से मिली प्रेरणा:

एडीजी विनोद कुमार ने बताया हाल में कुंभ में पीएसी जवानों की ड्यूटी व उनके रहने की व्यवस्था देखने के लिए गए थे. वहां कई जवान ऐसे दिखे जिन्होंने रॉबदार बड़ी-बड़ी मूछें रखी थी. उन सभी जवानों को मूंछे रखने के एवज में पुरस्कृत किया गया. मूंछ रखना या न रखना यह उनका व्यक्तिगत फैसला है. लेकिन वर्दी धारी जवानों मैं इस प्रकरण को बढ़ाने के लिए सभी 33 वाहिनीओं को यह निर्देश दे दिया गया है कि रोबदार मूंछ रखने वालों को प्रोत्साहित करें ताकि दूसरों को भी प्रेरणा मिले.


उन्होंने बताया कि हर वाहिनी ने मूछों के लिए प्रोत्साहन राशि पाने वाले जवानों का चयन कंपनी कमांडर करेगा और सेनानायक उस पर अपनी अंतिम मुहर लगाई दे रौबीली और बड़ी मूछ वालों को ही प्रोत्साहन राशि दी जाएगी.

शरीर के लिए भी करेंगे प्रेरित:

एडीजी ने कहा फिलहाल प्रोत्साहन राशि सभी भाइयों में उपलब्ध बजट के आधार पर दी जाएगी. जल्द ही इसके लिए बजट में अलग से मत बनाया जाएगा. इस संबंध में शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा इसके अलावा जवानों को बेहतर वर्दी और फिट शरीर के लिए भी प्रोत्साहित करने पर विचार चल रहा है. जवानों के टैनिंग सेटिंग को फिर से तय किया जाएगा. उन्हें रिफ्रेशर कोर्स कराए जाएंगे.


एक सेवानिवृत्त अफसर ने कहा कि विभाग में मूंछों को लेकर प्रोत्साहन न मिलने पुलिसकर्मियों में मूंछ रखने के चलन में गिरावट आई थी लेकिन ब्रिटिश राज में पुलिसकर्मी बड़ी-बड़ी रखते थे. ताकि वे आम लोगों से अलग दिखे. जिलों में तैनात अफसर वक्त वक्त पर बड़ी मूछ रखने वाले पुलिसकर्मियों को प्रोत्साहित करते रहे हैं. लेकिन कोई समग्र योजना या भत्ता लागू न होने की वजह से यह चलन धीरे धीरे कम होता चला गया

Next Story
Share it