Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > अखिलेश ने फिर नहीं मानी मुलायम की बात, कर दिया इस सीट पर भी उम्मीदवार घोषित

अखिलेश ने फिर नहीं मानी मुलायम की बात, कर दिया इस सीट पर भी उम्मीदवार घोषित

 Special Coverage News |  16 March 2019 6:22 AM GMT  |  संभल

अखिलेश ने फिर नहीं मानी मुलायम की बात, कर दिया इस सीट पर भी उम्मीदवार घोषित

समाजवादी पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए शुक्रवार को 5 सीटों पर अपने प्रत्याशियों के नाम का ऐलान कर दिया इसमें सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि इस लिस्ट में अर्पणा यादव यानी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव की पुत्रवधू अर्पणा यादव का नाम नहीं है. सिर्फ 24 घंटे पहले तक यह तय माना जा रहा था कि संभल लोकसभा सीट से प्रतीक यादव की पत्नी और मुलायम सिंह यादव की बहू अर्चना यादव चुनाव लड़ेगी. खुद मुलायम सिंह भी कह चुके थे कि अर्पणा को संभल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहिए.


बता दें कि गठबंधन और सपा दोनों के लिहाज से संभल लोकसभा सीट सुरक्षित मानी जा रही है पिछले चुनाव में यहां सपा और बसपा को मिलाकर 57 फीसद वोट मिले थे लेकिन तब यह अलग-अलग चुनाव लड़े थे टिकट बंटवारे का फैसला अखिलेश यादव ने किया है और अगर उन्होंने अर्पणा को संभल से टिकट नहीं दिया तो इसमें यह भी शंका होती है कि कहीं मुलायम के परिवार मैं फिर तो कोई विवाद खड़ा नहीं होगा इसकी वजह यह है कि मुलायम खुद अर्पणा को संभल से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते थे अखिलेश यादव मुलायम या फिर अर्पणा ने अब तक इस मसले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है कुछ दिनों पहले अर्पना ने कहा था कि जो मुलायम सिंह यादव चाहेंगे उसका पालन करेंगी.


शुक्रवार को समाजवादी पार्टी ने जिन प्रत्याशियों का ऐलान किया है उसमें पांच नाम शामिल है. जिस संभल लोकसभा सीट पर अर्पणा की दावेदार मानी जा रही थी उस पर शफीक उर रहमान वर्क को टिकट दिया गया है. बाराबंकी लोकसभा सीट से रामसागर रावत को उतारा गया है. राम सागर रावत इससे पहले भी बाराबंकी से 5 बार सांसद रह चुके हैं और कैराना लोकसभा सीट से उन्हीं तबस्सुम हसन को टिकट दिया गया है जो पिछली बार चुनाव जीती थे.


सपा सूत्रों ने बताया है कि सुरेंद्र कुमार उर्फ मुन्नी शर्मा को गाजियाबाद सीट से प्रत्याशी बनाया गया है सपा 11 उम्मीदवारों की तीन सूची पहले ही जारी कर चुकी है. शुक्रवार की सूची के साथ ही पार्टी 16 सीटों के लिए अपने प्रत्याशी तय कर चुकी है. सपा बसपा के बीच चुनावी गठबंधन के तहत सपा के हिस्से में 37 सीटें आई है. उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी अजीत सिंह की रालोद को 3 सीटें दी गई है जबकि गठबंधन ने 2 सीटें सोनिया गांधी का निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली और राहुल गांधी का क्षेत्र अमेठी से प्रत्याशी नहीं उतारने का फैसला किया है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top