Top
Begin typing your search...

मैनपुरी एसपी का बड़ा खुलासा, 14 टुकड़े करके महिला को जमीन में गाड़ दिया था इस नरपिशाच ने

मैनपुरी एसपी का बड़ा खुलासा, 14 टुकड़े करके महिला को जमीन में गाड़ दिया था इस नरपिशाच ने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महिलाओं की हॉरर किलिंग करने बाला साइको किलर अपने मामा के साथ पुलिस की गिरफ्त में

मैनपुरी / किशनी। जनपद के तेजतर्रार एसपी को ऐसे मामलों का पर्दाफास करने में महारत हाशिल है जिन बेहद उलझ चुके मामलों को बाकी अधिकारी अपनी अंतिम रिपोर्ट लगाकर बंद कर देते हैं। फिर चाहे बात सहारा गांव के राजीब खान की हत्या के बाद कंकाल की वरामदगी के साथ आरोपियों को जेल भेजने की हो या गांव कले में ओनर किलिंग में रूबी हत्याकांड का मामला हो।अपराधी बच कर निकलने की सोच भी नहीं सकता।

दस अक्टूबर को क्षेत्र के गांव बरुआ नद्दी में महिला के नरमुण्ड मिलने का एसपी ने खुलासा कर दिया है।महिला को उसके दूर के रिश्तेदार साइको किलर ने 14 टुकड़ों में काट कर जमीन में गाड़ दिया था।पुलिस ने आरोपी मामा-भांजे को जेल भेजा है।

10 अक्टूबर की रात क्षेत्र के बरुआ नद्दी में नरमुण्ड मिलने से सनसनी फैल गयी थी।रात में ही पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पाण्डेय भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए थे ।बरामद नरमुण्ड भरथना से गायब विधवा महिला का होने का कयास लगाए जा रहे थे।दो जिलों का मामला होने से मामले में गम्भीरता बरती जा रही थी।पुलिस ने नरमुण्ड के आधार पर शव होने की आशंका पर खोजबीन कराई और मामले को लेकर ग्रामीणों से पूछताछ की।जानकारी करने पर बताया गया कि 38 वर्षीय महिला पूती देवी पुत्री रक्षपाल यादव निवासी नगला महतिया थाना अछल्दा औरैया की ससुराल गांव टोडरपुर थाना चौबिया जिला इटावा में है। पूती के पति की छः वर्ष पहले मौत हो चुकी है व उसके दो बच्चे हैं।किशनी थाना क्षेत्र के बरुआ नद्दी निवासी सर्वेश पुत्र रामसनेही यादव ने पूती को आवास व शासकीय सहायता दिलवाने का लालच देकर अपने जाल में फंसाया।वह 20 सितंबर को बहला फुसलाकर पूती को अपने साथ कृष्णानगर भरथना से बाइक पर गांव ले आया।महिला के घर न पहुंचने पर परिजनों ने एसएसपी इटावा व भरथना पुलिस में इसकी शिकायत की।भरथना पुलिस ने महिला की गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज नहीं किया लेकिन आरोपी की तलाश में बरुआ नद्दी में दबिश दी थी।ग्रामीणों के अनुसार सर्वेश बेहद शातिर किस्म का है व उसकी आपराधिक गतिविधियों के कारण गांव में अन्य स्थानों की भी पुलिस का आना लगा रहता है।लापता पूती के पिता ने अपनी बेटी के हत्या का आरोप लगाया था।पूती के देवर मिथलेश कुमार पुत्र रामसनेही निवासी टोडरपुर थाना चौबिया इटावा ने थाने पर तहरीर दी थी।उसने नरमुण्ड को अपनी भाभी पूती देवी का बताते हुए जांच की मांग की थी।

एसपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मामले का किया खुलासा

मंगलवार को एसपी अजय कुमार पाण्डेय ने मामले की जानकारी मीडियाकर्मियों को दी।उन्होंने बताया कि 20 सितंबर को महिला पूती देवी को सर्वेश यादव के मामा सन्तोष यादव पुत्र साहब सिंह निवासी नगला परसादी थाना बिधूना जिला औरैया ने विकास भवन के बाबू के नाम से फोन किया।दोनों ने पूती देवी से 4 हजार रुपये,आधार कार्ड और दो फ़ोटो ले लिए और विकास भवन इटावा ले जाने के नाम पर बाइक से बरुआ नद्दी ले आये।वहां आने पर पूती देवी ने विरोध किया तो सर्वेश ने पूती को अपने 45 वर्षीय मामा सन्तोष से शादी करने की बात कही।पूती देवी ने इसका विरोध कर पुलिस में शिकायत की धमकी दी तो सर्वेश ने उसे उठाकर पटक दिया।दोनों ने मिलकर उसका गला दबा दिया और जेवर उतारकर लाश के 14 टुकड़े कर खेतों में गाड़ दिए।पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद सर्वेश और उसके मामा संतोष को गिरफ्तार कर लिया।पुलिस की कड़ी पूछताछ में मामले का खुलासा हुआ है।एसपी ने बताया कि महिला के नरमुण्ड का डीएनए टेस्ट कराकर वैज्ञानिक साक्ष्य एकत्र करेगी।पुलिस आरोपी को फांसी के तख्ते तक पहुंचने का प्रयास करेगी।

मृतका का मोबाइल,आधार कार्ड हुआ बरामद

पुलिस को आरोपी सर्वेश यादव के पास से मृतका का मोबाइल फोन,आधार कार्ड,इलाहाबाद बैंक की पासबुक,दो कांच के कंगन बरामद हुए हैं।एसपी अजय कुमार ने बताया कि महिला को खेत में गाड़ने वाली जगह की जेसीबी से खुदाई कराई जाएगी।जिससे महिला पूती देवी के शव के टुकड़ों के अलावा कई अन्य राज खुलने की संभावना है।सर्वेश गांव के बाहर एक झोपड़ी बनाकर रहता था जिससे ये वहां पर ऐसी घटनाओं को आसानी से अंजाम देता रहता था।पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है।

आरोपी पर 11 मुकदमे हैं दर्ज,मामा का परिवार भी है आपराधिक

आरोपी सर्वेश यादव ने 2012 में सौरिख थाना क्षेत्र में एक महिला की बलात्कार के बाद हत्या कर शव जला दिया था।जिसका मुकदमा वहां के थाने में दर्ज है।इसी तरह उस पर 11 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।सर्वेश 26 माह बाद मार्च में जेल से जमानत पर छूटकर आया था और तारीख पर न्यायालय नहीं जाता था।जिस पर इसके विरुद्ध कई गैर जमानती वांरट जारी हो चुके हैं।

पुलिस को उसके पास से एक तमंचे व दो कारतूस बरामद हुए हैं।सर्वेश के मामा सन्तोष कुमार का परिवार भी आपराधिक गतिविधियों में लिप्त रहता है।सर्वेश आठ भाई है और सभी का आपराधिक इतिहास है।

19 वर्ष की उम्र से शुरू किया अपराध,मां की भी कर चुका है हत्या

मामले में पकड़ा गया सर्वेश यादव एक साइको किलर है जिसे हॉरर किलिंग करने में महारत हाशिल है।उसने 19 वर्ष की उम्र में अहमदाबाद में नौकरी करना शुरू की।वहां से वह एक युवती को भगा कर ले आया था।कुछ दिनों तक गांव में उसकी शादी की बात चली पर कुछ दिनों नाद उसने युवती की भी हत्या कर शव गायब कर दिया था जिसका आजतक पता नहीं चल सका है। इसे साइकोकिलर का ख़ौप ही कहा जायेगा कि दिन ढलने पर गांव की महिलाएं बाहर शौच के लिये अकेले जाने में भय खातीं थीं।एसपी ने बताया कि सर्वेश भोली भाली महिलाओं को सरकारी आवास,नगद रुपया दिलाने के नाम पर झांसा देता था।उसके बाद सुनसान जगह पर ले जाकर वलात्कार कर उनकी हत्या कर देता था।हत्या के बाद जेवर लूटकर साक्ष्य मिटाने के लिये लाश को खेत में छिपा देता था।सर्वेश की माँ को यह सब अच्छा नहीं लगता था उसने अपनी मां की टोकाटाकी से खिन्न होकर छह माह पूर्व 5 मई को अपनी मां किताबश्री की घर में जलाकर हत्या कर दी थी।इस मामले में इस पर 25 हजार का इनाम घोषित हुआ था।

भरथना पुलिस की लापरवाही आयी सामने

पूती के जघन्य हत्याकांड के मामले में भरथना पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है।महिला के परिजनों ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कराने को कहा पर पुलिस ने लापरवाही वरती और रिपोर्ट दर्ज नहीं की।बीस दिन बाद किशनी क्षेत्र में नरमुण्ड मिलने पर भरथना पुलिस ने महिला के पिता की तहरीर पर गुमशुदगी का मुकदमा दर्ज किया ।

पुलिस टीम को 25 हजार इनाम की घोषणा

मामले के खुलासे के लिये पुलिस की पांच टीमों ने कड़ी मेहनत की।सफल खुलासे पर एसपी ने थाना पुलिस व सर्विलांश टीम को 25 हजार रुपये का नगद इनाम व प्रशस्ति पत्र देने की घोषणा की।

ये थे पुलिस कप्तान की टीम के चमकते नगीने।

दो नरपिशाचों की गिरफ्तारी तथा पूछताछ करने बाली टीम में प्रभारी निरीक्षक किशनी अजीतकुमार,थानाध्यक्ष एलाऊ सुरेश चंद्र शर्मा,सर्विलांस प्रभारी जोगिंदर सिंह,स्वाट प्रभारी रामनरेश, जैकब फर्नांडिस, धर्मेंद्र मालिक,अमित चौहान, धर्मेंद्र, राजबीर, जोगेंद्र,रोबिन,संदीप,हरेन्द्र,सोनू शर्मा तथा रामबाबू थे।

Next Story
Share it