Home > अब्बास अंसारी ने देशभर के लोगों को दी होली की बधाई…. और साथ में की यह अपील

अब्बास अंसारी ने देशभर के लोगों को दी होली की बधाई…. और साथ में की यह अपील

होली हमारे जीवन में सिर्फ खुशियां और रंग लेकर नहीं आती, यह सभी धर्मों के लोगों के बीच मित्रता और भाईचारे के बंधन को मजबूत करने का अवसर भी लेकर आती है.

 शिव कुमार मिश्र |  2018-03-02 10:14:30.0  |  मऊ

अब्बास अंसारी ने देशभर के लोगों को दी होली की बधाई…. और साथ में की यह अपील

बहुजन समाज पार्टी के युवा नेता अब्बास अंसारी ने कहा कि होली हमारे जीवन में सिर्फ खुशियां और रंग लेकर नहीं आती, यह सभी धर्मों के लोगों के बीच मित्रता और भाईचारे के बंधन को मजबूत करने का अवसर भी लेकर आती है।' आप सभी देशवासियो को होली की हार्दिक शुभकामनाएं.


अब्बास अंसारी ने कहा कि देशभर में होली का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। रंगों में सराबोर लोग एक दूसरे को गले लगाकर होली की बधाई दे रहे हैं. आप सभी प्रिय देशवासियो को पावन पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाये आप सबका जीवन सुख ,समृध्दि ,ऐश्वर्य ,वैभव ,कीर्ति रूपी अनेक रंगों से ओतप्रोत होकर जीवन की अनंत ऊंचाइयों को प्राप्त हो.
साथ में देशभर के मुसलमानों से की यह अपील

अब्बास अंसारी ने कहा कि आज जुमा का दिन है और हिन्दू भाइयों का होली का त्योहार भी, हमारे कपड़ों पर रंग या उसके छींटे भी आ जाएं तो हम सब्र से काम लें.क्योंकि हम उस नबी के उम्मती हैं जिनके कपड़ों पर रंग नहीं बल्कि एक बुढ़िया कचरा डाला करती थी। और उस कचरा डालने वाली बुढ़िया के बीमार होने पर हमारे नबी हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उस बुढ़िया के घर जाकर उसकी अयादत की। और उस बुढ़िया ने ये अख़लाक़ देख कर इस्लाम क़बूला था.

अब्बास अंसारी ने कहा कि ये मुल्क हमारा एकता और भाईचारे से मजबूत होगा और कुछ ताकते जानबूझकर शरारत करके साम्प्रदायिक माहौल बनाना चाहती है लेकिन हम सबका कर्तव्य और दायित्व है कि एकजुट होकर हमसभी इन ताकतों को मुँहतोड़ जबाब दे और आपस में मिलजुलकर सब पर्व और त्यौहार मनायें हमारे मुल्क की पहचान ही गंगा जमुनी तहजीब वाली है और वो कायम रह सके और ये परम्परा हमेशा हमेशा के लिये जिंदा रहे !

अब्बास अंसारी ने कहा कि अपने देश की संविधान और कानून की रक्षा के लिये हम सभी को मिलजुलकर काम करना पड़ेगा तभी साम्प्रदायिकता ताकते नाकाम होगी और साम्प्रदायिकता का कोई धर्म नही होता है वो हिन्दू भी हो सकता है वो मुसलमान भी हो सकता है वो सिख भी हो सकता है वो ईसाई भी हो सकता है ये संविधान हमारा सबको बराबर का अधिकार देता है और हम सब मिलकर कोशिश करें सब खुशी खुशी रहे आपस में एकता रहे भाईचारा रहे और मोहब्बत से एक दूसरे की दुःख में शरीक हो.

Tags:    
Share it
Top