Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > मेरठ > एडीजी प्रशांत कुमार ने दिया शहीद सुबोध कुमार की पत्नी को 70 लाख 8 हजार का चेक

एडीजी प्रशांत कुमार ने दिया शहीद सुबोध कुमार की पत्नी को 70 लाख 8 हजार का चेक

 Special Coverage News |  18 Jan 2019 10:51 AM GMT  |  मेरठ

एडीजी प्रशांत कुमार ने दिया शहीद सुबोध कुमार की पत्नी को 70 लाख 8 हजार का चेक

अपर पुलिस महानिदेशक मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने शहीद थानाध्यक्ष सुबोध कुमार की पत्नी को सौंपा। 70लाख 8 हजार का चेक उन्होंने सुबोध कुमार की पत्नी को सुपर्द किया, इस अवसर पर सुबोध की पत्नी के साथ उनका बेटा भी मौजूद था।


अपर पुलिस महानिदेशक मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने बताया कि इस योगदान में मेरठ ज़ोन के सभी नौ जनपदों ने सहयोग किया. जिसकी धनराशि 70 लाख 8 हजार उनकी पत्नी को दिया जा रहा है. उन्होंने चेक देते समय सुबोध की पत्नी को ढाढस बंधाते हुए कहा कि यूपी पुलिस आपके लिए हर समय साथ देने के लिए तैयार है। हम आपकी हर संभव मदद के लिए तैयार रहेंगे।

उन्होंने बताया कि यह योगदान यूपी पुलिस के मेरठ ज़ोन में कार्यरत पुलिस कर्मियों सहित सबने सहयोग किया है. जिसमें सबसे ज्यादा धनराशि बुलंदशहर जनपद से आई है. क्योंकि वहां के सभी अधिकारी और पुलिस कर्मियों ने सहयोग दिया. शहीद थाना प्रभारी सुबोध कुमार बुलंदशहर जनपद में ही तैनात थे।


मेरठ में अपर महानिदेशक मेरठ ज़ोन प्रशांत कुमार के द्वारा ज़ोनल स्तरीय समीक्षा बैठक आहूत की गई जिसमें ज़ोन के समस्त नौ जनपदों के पुलिस कप्तानों तथा मेरठ व सहारनपुर रेंज के आई जी द्वारा प्रतिभाग किया गया।इसमें अन्य जनपदों के साथ ही जनपद शामली में लागू की जा रही तमाम नई पहलों की प्रशंसा की गई। उक्त गोष्ठी में न केवल अपराध व क़ानून व्यवस्था की समीक्षा कर सभी को विस्तृत दिशा निर्देश दिए गए वरन् निचले स्तर पर कुछ हद तक शेष भ्रष्टाचार पर पूर्ण अंकुश लगाने तथा आम जनमानस के प्रति व्यवहार में और अधिक सुधार लाने हेतु कड़े निर्देश दिए गये।

इसी गोष्ठी के दौरान ही आज महिलाओं एवं बच्चों की तस्करी से जुड़े अपराधों पर प्रभावी नकेल कसने हेतु काफ़ी योजनाबद्ध ढंग से तैयार एक सुविचारित एसओपी (मानक परिचालन पद्धति) पुस्तिका का भी विमोचन किया गया। इसको तैयार करने में ख्यातिलब्ध भूतपूर्व आईपीएस ऑफ़िसर पीएम नायर की भी अग्रणी भूमिका रही है। ख़ास बात यह है कि इस एसओपी में इस बात पर बल दिया गया है कि पुलिस का ध्यान महिलाओं और बच्चों को शोषण हेतु माँगने वाले उन अपराधी ग्राहकों ('कस्टमर्स') पर ज़्यादा होना चाहिए ताकि 'डिमाण्ड साइड' को हतोत्साहित कर इन जघन्य अपराधों पर अंकुश लगाया जा सके। आने वाले समय में यह एसओपी मील का पत्थर साबित होगी इसकी प्रबल संभावना को रेखांकित किया गया।

इसके अतिरिक्त अभी हाल ही में बुलन्दशहर में घटित दुर्भाग्यपूर्ण हिंसा के दौरान शहीद हुए पुलिस परिवार के जाँबाज़ श्री सुबोध सिंह के परिवार को मेरठ ज़ोन के पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा अपने वेतन से स्वेच्छा से योगदान देकर रूपया सत्तर लाख (70,00,000) से ऊपर की धनराशि का चेक प्रदान किया गया है जिसकी परिजनों ने न केवल भूरि भूरि प्रशंसा की वरन् अपने विभाग का हृदय से आभार भी व्यक्त किया है।यहाँ यह उल्लेखनीय है कि यह सहयोग धनराशि उनके परिजनों को सरकार द्वारा प्रदत्त पचास लाख रूपये की राशि के अलावा है।



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top