Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > मुरादाबाद > यूपी : IAS जुहैर बिन सगीर समेत 9 अफसरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

यूपी : IAS जुहैर बिन सगीर समेत 9 अफसरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

इस घोटाले में एन एच आर एम घोटाले में जेल जा चुके दवा कारोबारी व होटल संचालक सौरभ जैन, सौम्य जैन और जुल्फिकार अली का नाम भी दर्ज है।

 Special Coverage News |  2018-10-23 10:43:48.0  |  दिल्ली

यूपी : IAS जुहैर बिन सगीर समेत 9 अफसरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मुरादाबाद : उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में एक आईएएस अधिकारी सहित कई अधिकारीयों और अन्य लोगों के खिलाफ विजिलेंस ने सिविल लाईन और मुण्डापाण्डेय थानों में गबन और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम सहित विभिन्न धाराओं में दो मुक़दमे दर्ज कराये हैं दोनों मुक़दमे भूमि घोटाले से सम्बंधित हैं जिस में तत्कालीन जिला अधिकारी मुरादाबाद आई ए एस ज़ुहैर बिन सगीर और सेवानिविर्त तत्कालीन एडीएम सिटी अरुण श्रीवास्तव, पूर्व तहसीलदार संजय कुमार, सहायक अभियंता अर्बन सीलिंग विभाग सुरेन्द्र प्रकाश गुप्ता, अर्बन सीलिंग विभाग के कनिष्ठ लिपिक हरेन्द्र कुमार, रीता सिंह पेशकर इन्द्रजीत सिंह और फर्जी प्रपत्रों की बदौलत अर्बन सीलिंग भूमि कब्जाने की आरोपी नसीम बानो के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, सरकारी धन के गबन, धोखाधड़ी और साजिश रचने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है

इस घोटाले में एन एच आर एम घोटाले में जेल जा चुके दवा कारोबारी व होटल संचालक सौरभ जैन, सौम्य जैन और जुल्फिकार अली का नाम भी दर्ज है

मुरादाबाद के अधिवक्ता दुष्यंत राज चौधरी की शिकायत पर शासन ने विजिलेंस जाँच के आदेश दिए थे जिसके बाद विजिलेंस ने मामले की जाँच की और अब बरेली विजिलेंस के इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार शर्मा की तरफ से सिविल लाईन थाने में और विजिलेंस इंस्पेक्टर विजय कुमार की तरफ से मुण्डा पाण्डेय थाने में मुक़दमे दर्ज कराए गये हैं। आरोप है कि मई 2016 से मई 2017 तक इन अधिकारियों ने सीलिंग के कुल 15 मुकदमो पर अवैध रूप से फैसला लिया और अर्बन सीलिंग और वक्फ की ज़मीनों को अपने मिलने वालों और रिश्तेदारों को फायदा पहुँचाने के लिए गलत तरीके से दे दिया।

सपा सरकार में ज़ुहैर बिन सगीर मुरादाबाद के जिला अधिकारी थे और उन्होंने जिला अधिकारी रहते हुए ज़मीनों का ये घोटाला किया। उस वक़्त भी लोगो ने तत्कालीन जिला अधिकारी मुरादाबाद ज़ुहैर बिन सगीर के खिलाफ काफी धरने प्रदर्शन किये थे लेकिन कोई सख्त कार्यवाही नहीं हो पाई थी। अब योगी सरकार ने आई ए एस ज़ुहैर बिन सगीर पर शिकंजा कस दिया है। ज़ुहैर बिन सगीर आजकल लखनऊ सचिवालय में उप सचिव के पद पर हैं। मुरादाबाद के एसएसपी जे रविन्द्र गौड़ ने बताया की विजिलेंस ने मुरादाबाद के दो थानों में मुक़दमे दर्ज कराये हैं और इन मुकदमो की जाँच विजिलेंस विभाग ही करेगा।

रिपोर्ट : सागर रस्तोगी

Tags:    
Share it
Top