Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > मुरादाबाद > वैदेही शर्मा ने CBSE में 97.6 प्रतिशत अंक लाकर मुरादाबाद का नाम किया रौशन, डॉ. बनकर गरीबों का करना चाहती हैं निशुल्क इलाज

वैदेही शर्मा ने CBSE में 97.6 प्रतिशत अंक लाकर मुरादाबाद का नाम किया रौशन, डॉ. बनकर गरीबों का करना चाहती हैं निशुल्क इलाज

वैदेही ने कहा कि सोशल मीडिया पर सीमित व्यवहार और प्रयोग ही आपको सफलता दिलाएगा..

 Arun |  3 May 2019 7:45 AM GMT  |  दिल्ली

वैदेही शर्मा ने CBSE में 97.6 प्रतिशत अंक लाकर मुरादाबाद का नाम किया रौशन, डॉ. बनकर गरीबों का करना चाहती हैं निशुल्क इलाज
x

मुरादाबाद : सीबीएसई के रिजल्ट में साल दर साल उछाल का सिलसिला जारी है। इस बार फिर बंपर मार्क्स हासिल करने वाले छात्रों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है। 2018 में जहां 12,737 स्टूडेंट्स ने 95 फीसदी या उससे ज्यादा नंबर हासिल किए थे, वहीं इस साल कुल 17,690 स्टूडेंट्स इस क्लब में शामिल हुए हैं जो पिछले साल के मुकाबले 39 फीसदी ज्यादा है। 92,499 स्टूडेंट्स ने 90 फीसदी और उससे ज्यादा नंबर हासिल किए हैं जो अब तक का सबसे बड़ा रेकॉर्ड है।

वैदेही शर्मा ने मुरादाबाद का नाम किया रौशन

वहीं, यूपी के मुरादाबाद जिले में शिरडी साईं पब्लिक स्कूल की 12वीं की छात्रा वैदेही शर्मा ने विज्ञान वर्ग के बायोलॉजी ग्रुप में 97.6 प्रतिशत अंक के साथ स्कूल टॉप किया है। वहीं मुरादाबाद डिस्ट्रिक्ट में दूसरा स्थान प्राप्त किया है तो मंडल में छठा स्थान प्राप्त किया है।

वैदेही शर्मा को डॉक्टर बनना है इसके लिए नीट परीक्षा की तैयारी भी शुरू कर दी है। वैदेही ने कहा कि सोशल मीडिया पर सीमित व्यवहार और प्रयोग ही आपको सफलता दिलाएगा। परीक्षा से पहले ही मैंने इन सब से दूरी बना ली थी। सेल्फ स्टडी को भी मैं प्राथमिकता देती हूं, मैंने खुद तैयारी की थी। निश्चित समय के लिए गाइडेंस की जरूर सहायता ली। अब नीट की तैयारी के लिए भी मैं एकेडमिक बुक्स के माध्यम से तैयारी में जुटी हूं। वैदेही शर्मा न्यूरोलॉजिस्ट बन कर गरीबों का निशुल्क इलाज करना चाहती हैं।




वैदेही ने प्रयाग संगीत समिति प्रयागराज से कत्थक में प्रभाकर किया है। तबला में चौथे वर्ष की पढ़ाई कर रही हैं। खेलों में भी इनकी रूचि है। जिला स्तर पर ताइक्वांडो प्रतियोगिता में प्रतिभाग करती आई है। स्विमिंग करना व चेस खेलना भी इनकी पसंद है। वैदेही कहती हैं कि उनको अपराध के उपन्यास पढ़ना बहुत पसंद है। वह आगे बातें हैं कि उनके पढ़ाई के घंटे निश्चित नहीं थे लेकिन जितनी देर पढ़ती थी एकाग्रता बनाए रखतीं थी। शानदार सफलता पर उनके परिवार में खुशी का माहौल है।

वैदेही के पिता विशाल शर्मा का कार्ड छपाई का कारोबार है, साथ ही टेक्नोलॉजी कंपनी भी चलाते हैं। विशाल शर्मा आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से भी एक हैं जिन्होंने कुछ समय पहले पार्टी को छोड़ दिया था।




नंबर वन पर दो टॉपर

इस साल दिल्ली पब्लिक स्कूल, मेरठ, गाजियाबाद की हंसिका शुक्ला और एस.डी.पब्लिक स्कूल, मुजफ्फरनगर की करिश्मा अरोड़ा संयुक्त टॉपर रही हैं। दोनों ह्यूमैनिटीज की स्टूडेंट्स हैं और दोनों के 499-499 नंबर आए हैं।

तीसरे नंबर पर 18 टॉपर

18 स्टूडेंट्स ने इस साल तीसरी पोजिशन हासिल की है। उनके 500 में से 497 नंबर आए हैं। उन छात्रों में गाजियाबाद के मेरठ रोड पर स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल के अर्पित माहेश्वरी और राजस्थान के अलवर के सेंट आंसलेम्स स्कूल की टिशा गुप्ता शामिल हैं। माहेश्वरी ने साइंस में टॉप किया है जबकि गुप्ता ने कॉमर्स में।

पहली तीन पोजिशनों के कुल 23 टॉपरों में से 16 लड़कियां हैं। उनमें से भी कमोबेश 21 छात्राएं ह्यूमैनिटीज की हैं। देहरादून क्षेत्र के स्कूलों के 23 में से 13 टॉपर हैं। लगातार पांचवें साल लड़की बोर्ड टॉपर बनी हैं जबकि लगातार सातवें साल कम से कम एक टॉपर दिल्ली-एनसीआर से रहा है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it