Top
Begin typing your search...

करोडों की ठगी करने वाले कॉल सेंटर को नोएडा पुलिस ने पकड़ा

करोडों की ठगी करने वाले कॉल सेंटर को नोएडा पुलिस ने पकड़ा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। एसएसपी गौतमबुद्ध नगर के नेतव्य में नोएडा पुलिस ने थाना फैस-3 क्षेत्र में एक फर्जी काल सेंटर पर मारा छापा।जो अमेरिकी एजेंसी एफबीआई का आधिकारी बनकर विदेशियों को ठगता था।पुलिस ने मौके से 128 लोगों को गिरफ्तार किया गया।जबकि कंपनी का मालिक फरार है। पुलिस ने कॉल सेंटर से 20 लाख रूपये नगद, कंप्यूटर,लैपटाप,चैक बुक आदि बरामद किये।पुलिस की गिरफ्त में आये ये सभी आरोपी अवैध रूप से चल रहे कॉल सेंटर में बैठकर अपने आपको शोसल सिक्योरिटी एजेंसी का एजेंट बताकर अमेरिकी लोगों को कॉल करके डरा धमका कर उन्हें अपनी ठगी का शिकार किया किया करते थे।


नॉएडा पुलिस को सूचना मिली कि थाना फेस-3 के सेक्टर 63 में फर्जी कॉल सेंटर चल रहा है। पुलिस को जानकारी मिली कि सैकड़ो लोग एक फर्जी कॉल सेंटर के जरिये अमेरिकी मूल के लोगों से सोशल सिक्योरिटी एजेंसी के नाम पर डरा धमका कर उनसे ठगी करते हैं।आप को बता दे कि ये सैक्टर-63 में करीब 8 महीने से चल रहा था इससे पहले ये गुडगांव से ठगी का कारोबार करते थे।कॉल सेंटर का संचालक अभी फरार चल रहा है।


एसएसपी डॉ अजय पाल ने बताया कि सैक्टर-63 स्थित एक कॉल सेंटर में लोगों द्वारा अमेरिकियों से संपर्क कर उन्हें ठगा जाता है।सूचना के आधार पर एक विशेष टीम बनाकर बृहस्पतिवार की रात कॉल सेंटर पर छापा मारा गया। उन्होंने बताया कि कॉल सेंटर से नरेंद पाहुजा, शैगी, मनीष बलवान, बिपिन, रिमी, मुकुल, परिधि, जान मोहम्मद, मयूर, पुनीत, प्रमोद, चुम- थम सहित 128 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे गूगल और अन्य प्लेटफार्मों के जरिये अमेरिकी लोगों का डाटा तथा सोशल सिक्यॉरिटी नंबर हासिल कर उनसे संपर्क करते थे।ये लोग खुद को अमेरिकी गुप्तचर एजेंसी एफबीआई के अधिकारी बताकर अमेरिकी नागरिकों को झूठे मामलों और चाइल्ड पॉर्न मामले में फंसाने की धमकी देते थे।


एसएसपी ने बताया कि इनके झांसे में जो आ जाता था उससे ये लोग 2,000 अमेरिकी डॉलर से लेकर 5,000 अमेरिकी डॉलर तक की रकम अपने खाते में डलवा लेते थे।अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई को ईमेल के जरिए पूरे घटनाक्रम से अवगत करा दिया गया है।कुछ दिन पहले एफबीआई के अधिकारी भारत आए थे, तथा उन्होंने नोएडा पुलिस से संपर्क कर उसे कुछ सूचनाएं दी थीं।उसके बाद विदेशी लोगों को ठगने वाले दर्जनभर कॉल सेंटरों पर छापेमारी की गई। एसएसपी ने बताया कि मौके से कई कंप्यूटर, लैपटॉप, चेक बुक आदि बरामद हुए हैं।आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करके जेल भेज दिया गया है।

Special Coverage News
Next Story
Share it