Top
Begin typing your search...

नोएडा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी,मोबाइल टावरों से बैटरी चोरी करने वाले 4 बदमाशों किया गिरफ्तार

नोएडा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी,मोबाइल टावरों से बैटरी चोरी करने वाले 4 बदमाशों किया गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

एसपी सिटी अंकुर अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार बदमाश दिल्ली-एनसीआर में लगे मोबाइल टावरों को रेकी करते थे।

नोएडा। अपराध पर अंकुश लगाने वाली नोएडा पुलिस ने मोबाइल टावरों से बैटरी चोरी करने वाले 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है।आपको ज्ञात होगा कि एसएसपी वैभव कृष्ण के आदेश पर अपराधियों पर नकेल कसी जा रही है।इसी क्रम में थाना प्रभारी सैक्टर-49 धमैन्द्र शर्मा के नेतृत्व में कुलदीप मलिक,सोहनवीर सिंह,राजेन्द्र सिंह और विकास शर्मा ने अपनी टीम के साथ मिलकर थाना क्षेत्र के बरौला टी-पॉइंट के पास से मोबाइल टावरों से बैटरी चोरी करने वाले 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

पकड़े गए बदमाशों की पहचान मुकेश उपाध्याय,विजय कुमार उर्फ छोटू निवासीगाजियाबाद,सलमान निवासी बुलंदशहर और विशेष खाटियान निवासी शामली के रूप में हुई है।इनके कब्जे से 2.7 लाख रुपये कीमत की तीन पैनासोनिक बैटरी,45 हजार रुपये कीमत की सैल बैटरी समेत बैटरी चोरी करने के उपकरण, 2 तमंचे, सेंट्रो कार और एफजेड बाइक बरामद की है।

वही प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी सिटी अंकुर अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार बदमाश दिल्ली-एनसीआर में लगे मोबाइल टावरों को रेकी करते थे।जिस टावर पर गार्ड या सिक्युरिटी सिस्टम नहीं होता था,वहां से बैटरी समेत अन्य कीमती समान चोरी कर लेते थे। इसके बाद बैटरी समेत सारा समान कबाड़ी को औने पौने दाम में बेच देते थे।इस मामले में 2 आरोपित बुलंदशहर निवासी आदिल और धर्मेंद्र अभी फरार हैं।धर्मेंद्र टावर लगाने के साथ टेक्निशन का काम भी करता है।

आगे उन्होने बताया कि गिरफ्तार 4 आरोपितों में से महेश इलेक्ट्रॉनिक्स से पॉलिटेक्निक कर चुका है।वहीं, विजय कुमार उर्फ छोटू आईटीआई कर चुका है।इसके चलते उन्हें टावरों के बारे में अच्छे से जानकारी है।जिसका फायदा वे चोरी करने में उठाते थे। ये लोग कुछ समय पहले मोबाइल टावर कंपनियों में टावर लगाने का काम भी कर चुके हैं। वर्तमान में भी ये लोग ठेकेदार के जरिए कंपनियों के टावर लगाने का काम कर रहे थे। ऐसे में इन्हें पता होता था कि किस टावर पर कितनी कीमत की बैटरी लगी है।


Next Story
Share it