Top
Begin typing your search...

वैभव कृष्ण प्रकरण में SIT ने शासन को सौपी रिपोर्ट

आपको बता दे कि कुछ समय पूर्व गौतमबुद्ध नगर के पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण ने पांच आईपीएस अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाये थे।जिसके चलते शासन द्वारा उन्हें अनुशासन हीनता का आरोप लगा कर सस्पेंड किया था।

वैभव कृष्ण प्रकरण में SIT ने शासन को सौपी रिपोर्ट
X
Ghaziabad SSP Vaibhav Krishna (File Photo)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

(धीरेन्द्र अवाना)

नोएडा।उत्तर प्रदेश के चर्चित मामलों में शुमार पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण प्रकरण में एसआईटी की जांच हुयी पूरी।शासन को भेजी अपनी रिपोर्ट में एसआईटी कुछ ऐसे साक्ष्य मिले जिनसे मामले में आरोपी बनाये गये सभी पाँच आईपीएस अधिकारियों की नींद हराम हो गयी है।

आपको बता दे कि कुछ समय पूर्व गौतमबुद्ध नगर के पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण ने पांच आईपीएस अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाये थे। जिसके चलते शासन द्वारा उन्हें अनुशासन हीनता का आरोप लगा कर सस्पेंड किया था।लेकिन अब एसआईटी की रिपोर्ट आने के बाद सच्चाई सामने आ गयी है।अब वैभव कृष्ण की सच्चाई पर एसआईटी ने भी अपनी मोहर लगा दी है।

बताते चले कि एसआईटी हेड़ डीजी विजिलेंस व कार्यवाहक डीजीपी ने अपनी रिपोर्ट शासन को सौप दी है।जिसमें उन्होंने दो आईपीएस अफसरों पर सख्त और तीन पर अनुशासानात्मक कारवाई की सिफारिश की है। आपको बता दे कि पूर्व एसएसपी वैभव कृष्ण के द्वारा दिये साक्ष्यों के आधार पर दोनों पक्षों के बयान दर्ज किये गये थे।साक्ष्यों में इसके अलावा उन विवेचकों के बयान भी शामिल किये गये जो कथित पत्रकारों के मामले से सम्बंधित है।

सभी पक्षों के बयान और साक्ष्यों के अध्यन के बाद ही एसआईटी इस निष्कर्ष पर पहुची है कि दो आईपीएस अधिकरियों के खिलाफ सख्त कारवाई वही तीन अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक होनी चाहिए। जानकारी के अनुसार इस मामले में जांच अधिकारियों को कुछ दस्तावेज केंद्र सरकार द्वारा भी मुहैया कराए गए हैं जहां शिकायतकर्ता ने पेन ड्राइव में सभी डिजिटल दस्तावेज उपलब्ध कराए थे।अब देखना है कि शासन एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर क्या कारवाई करती है।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it