Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण का भ्रष्टाचार पर बड़ा प्रहार, अग्निशमन अधिकारी को रिश्वत के आरोप में भेजा जेल

एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण का भ्रष्टाचार पर बड़ा प्रहार, अग्निशमन अधिकारी को रिश्वत के आरोप में भेजा जेल

 Special Coverage News |  22 Sep 2019 12:08 PM GMT  |  नोएडा .

एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण का भ्रष्टाचार पर बड़ा प्रहार, अग्निशमन अधिकारी को रिश्वत के आरोप में भेजा जेल
x
Vaibhav Krishna, IPS (SSP/GBN)

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। गौतमबुद्ध नगर के तेज तर्रार व ईमानदार एसएसपी वैभव कृष्ण भष्टाचारी और अपराधियों के लिए काल बनकर आते है। जिले में आते ही अपने विभाग में फैले भष्टाचार को खत्म करके अपराधियों को उनकी सही जगह पहुचा कर इसका बहतरीन उदाहरण भी दिया। इसी क्रम में शिकायत आने पर अग्निशमन विभाग में तैनात नोएडा के अग्निशमन अधिकारी के खिलाफ कारवाई की।आपको बता दें कि भाजपा नेता शिवकुमार शर्मा ने अग्निशमन अधिकारी प्रथम कुलदीप कुमार पर आरोप लगाया था कि एनओसी देने के लिए वह उद्यमियों से रिश्वत मांगते हैं। रिश्वत नहीं देने पर प्रताड़ित करने की धमकी देते हैं। दरअसल कुछ दिनों पहले अग्निशमन अधिकारी कुलदीप कुमार का एक ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था जिसकी जांच लखनऊ से भ्रष्टाचार निवारण की टीम ने की थी।मामले की गंभीरता को देखते हुये एसएसपी ने सीओ श्वेताभ पाण्डे को जांच के आदेश दिए।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि जांच में ये पता चला कि ऑडियों में पैसे लेन देन की जो बात हो रही थी वो अग्निशमन अधिकारी कुलदीप कुमार व फायर वेंडर अरविन्द गुप्ता के बीच हो रही थी।पुलिस की पूछताछ में अरविन्द गुप्ता ने बताया कि नोएडा के सैक्टर-48 स्थित मदर हुड अस्पताल की बिल्डिंग की फायर सेफ्टी एनओसी के लिए अग्निशमन अधिकारी कुलदीप कुमार ने 80,000 रूपये की मांग की थी।एसएसपी ने बताया कि प्रथम दृष्टया होता है कि दोनों व्यक्ति ही अपराधी की श्रेणी में आते है।कुलदीप कुमार ने लोक सेवक होते हुये भी एनओसी के नाम पर अनुचित लाभ प्राप्त करके अपराध किया जबकि अरविन्द गुप्ता द्वारा गलत एनओसी प्राप्त करने के लिए अग्निशमन अधिकारी को अनुचित लाभ दिया गया।दोनों ने बताया कि इस कार्य को अजांम देने के लिए 7 अलग अलग संगठित गिरोह काम करते थे जो विभन्न भवनों,विधालयों,

अस्पतालों,उद्योगों में एनओसी दिलवाने के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी करते थे।जिनके पास से करीब 450 एनओसी प्राप्त की है।भष्टाचार सिद्ध होने पर दोनों के विरुद्ध थाना-20 में 146/19,धारा 420/467/46/ 471,66 आईटी एक्ट व 7,8,13(1)(D)के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it