Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > एसएसपी वैभव कृष्ण ने किया वाइक वोट कंपनी के 1500 करोड़ के फ्राड का बड़ा खुलासा

एसएसपी वैभव कृष्ण ने किया वाइक वोट कंपनी के 1500 करोड़ के फ्राड का बड़ा खुलासा

 Special Coverage News |  21 Jun 2019 1:27 PM GMT  |  दिल्ली

एसएसपी वैभव कृष्ण ने किया वाइक वोट कंपनी के 1500 करोड़ के फ्राड का बड़ा खुलासा
x

उत्तर प्रदेश के औधोगिक नगरी नोएडा में वाइक वोट कंपनी का खुलासा एसएसपी वैभव कृष्ण ने किया. इस कंपनी के द्वारा जनता को करीब पन्द्रह सौ करोड़ रूपये का चूना लगाया है. इस कंपनी के बारे में उन्होंने पूरी जानकारी दी.

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि गर्वित इनोवेटव प्रमोटर्स लि0 जीआइपीएल के मास्टरमाईण्ड संजय भाटी पुत्र रतन सिंह भाटी निवासी ग्राम चीती थाना दनकौर जनपद गौतमबुद्धनगर उम्र 42 वर्ष, जिसने वर्ष 1998 काशीपुर से कैमीकल इन्जीनियरिंग में डिप्लोमा किया गया था, जिसके द्वारा जनवरी 2010 में गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटिड की शुरूआत की गयी, जिसका आरओसी में रजिस्ट्रेशन वर्ष 2010 में ही कराया गया। कम्पनी का आफिस ग्राम चीती में स्थापित किया, वर्ष 2017 में आरओसी से अनुमोदन प्राप्त कर ''बाईक बाॅट'' स्कीम की शुरूआत की गयी। बाईक बोट का पहला आफिस सैक्टर-15 नोएड़ा में खोला गया, कम्पनी में निवेश के लिये एक बाईक पर 62100/- निवेश करके बदले में कुल 9765/-रूपये की 12 मासिक किस्तो में (4590/-बाईक किराया व 5175/- शुद्धलाभ) प्रतिमाह वर्ष में कुल 1,17,180/- निवेशक को दिया जाना था। जब कम्पनी का प्रोजक्ट बाईक बोट धीरे-2 लोकप्रिय होने लगा, तो कम्पनी ने इसका प्रचार-प्रसार नोएडा से बाहर बागपत, हापुड़, बुलन्दशहर, अलीगढ़, गाजियाबाद, सहारनुपर, मुजफ्फरनगर, कानपुर, बनारस, लखनऊ आदि उ0प्र0 के शहरो के साथ-साथ हरियाणा प्रदेश में गुडगांव, रोहतक, पानीपत, एवं पंजाब प्रदेश के पटियाला, जालंधर एवं राजस्थान प्रदेश के जयपुर, जोधपुर तथा मध्य प्रदेश के इन्दौर एवं महाराष्ट्र पुणे, नासिक व उत्तराखण्ड के हरिद्वार आदि शहरों में फ्रेचआईजी खोलना आरम्भ कर दी गयी, इस प्रकार यह स्कीम धीरे-धीरे विभिन्न राज्यों में फैलने लगी।




एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि जब निवेशकों का इस स्कीम में रूझान बढने लगा तो अक्टूबर 2018 में बाईक बोट में केवल पैट्रोल बाईके चलती थी, जिनके स्थान पर नई स्कीम के तहत कम्पनी द्वारा ई-बाईक चलाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया। अभियुक्तगण से पूछताछ पर करीब 9 से 10 हजार मोटरसाईकल बाईक टैक्सी चलने की बात प्रकाष मंे आयी। साथ ही दिसम्बर 2018 तक कम्पनी में कुल 2,25,000 (दो लाख 25 हजार) निवेषक आई0डी0 एक्टीवेट करने की बात अभियुक्तगण द्वारा बताई गयी है, जिसकी जांच की जा रही है। निवेशक आईडी के आधार पर प्रथम दृष्टया यह लगभग 1500 करोड रूपये का स्कैम होना प्रतीत होता है, जिस सम्बन्ध में एसआईटी द्वारा विस्तृत जांच की जा रही है। जिन बैंक खातों में कम्पनी द्वारा निवेशकों से पैसा जमा कराया गया, उन सभी खातों को एस0आई0टी0 द्वारा फ्रीज कराया जा चुका है तथा बैंक खातों से विवरण प्राप्त किया जा रहा है। कम्पनी द्वारा आई0डी0बी0आई0 बैंक यमुना विहार में 10 खाते, नाॅबेल काॅपरेटिव बैंक सै0-22 नोएडा में 01 खाता, आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक खुर्जा, बुलन्दषहर में 1 खाता, आईसीआईसीआई बैंक पल्लवपुरम, मेरठ में 1 खाता, काॅपरेटिव बैंक नगीना, बिजनौर में 01 खाता एवं इन्डीपेन्टडेन्ट टीवी लि0 के आई0सी0आई0सी0आई0 बैंक खाते सै0 63 नोएडा व पंजाब नेष्नल बैंक सै0-27 नोएडा में व रिलाईन्स बिग टी0वी0 लि0 के खाते पंजाब नेष्नल बैंक सै0-27 नोएडा व पाईनेक्स ब्रोडकास्ट प्रा0लि0 के आईसीआईसीआई बैंक सै0-63 नोएडा में निवेष कराया गया है। अभियुक्त संजय भाटी से पूछताछ में गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लि0 द्वारा कई सौ करोड रूपया विभिन्न कम्पनियों में डाईवर्ट किया जाना प्रकाष में आया है, जिस सम्बन्ध में गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लि0 से सम्बन्धित सभी बैंक खातों का विवरण प्राप्त कर एस0आई0टी0 द्वारा उनका गहनता से परिक्षण किया जा रहा है।




एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि बाईक बोट पावर्ड बाई गर्वित इनोवेटिव प्रा0लि0 के विरूद्ध अभी तक थाना दादरी पर कुल 37 अभियोग पंजीकृत हो चुके हैं, जिसमें प्रथम मुकदमा अ0सं0 206/19 धारा 420/467/471/406 भादवि के अन्तर्गत वादी मुकदमा सुनील कुमार मीणा निवासी जयपुर, राजस्थान द्वारा पंजीकृत कराया गया।

अपराध करने का तरीका-

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लि0 ग्रेटर नोएडा कम्पनी द्वारा एक फर्जी स्कीम ''बाईक बोट'' नाम से बनाई गयी, जिसके अन्तर्गत एक टैक्सी बाईक के लिए कुल 62,100/-रूपये निवेष करना होता था, जिसके बदले में कम्पनी 4590/-रूपये प्रति बाईक किराया व 5175/-रूपये लाभांश कुल 9765/-रूपये प्रतिमाह 12 मासिक किस्तों के रूप में कुल 1,17,180/-(एक लाख सतरह हजार एक सौ अस्सवी) रूपये निवेषक को एक वर्ष में प्राप्त होना था। इस स्कीम को लोगों तक पहुंचाने के लिए कम्पनी द्वारा इन्टरनैट, पम्पलेट्स व प्ररकों का सहयोग लिया गया, इसी के साथ निवेषकों को भी प्रोत्साहन के रूप में अतिरिक्त धनराषि का लालच देकर अन्य लोगों को जोडने के लिए प्रेरित किया गया। उक्त कम्पनी द्वारा कई राज्यों में अपनी फ्रेन्चाईजी भी खुलवाई गयी है। कम्पनी द्वारा उक्त स्कीम के कई करोड रूपये का निवेष देषभर के लोगों से कराया गया तथा उक्त रूपये को षडयन्त्रपूर्वक हडप लिया गया।




एसआइटी द्वारा कृत कार्यवाही का विवरण -

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, गौतमबुद्धनगर ने उपरोक्त कम्पनी से सम्बन्धित पंजीकृत सभी मुकदमों की विवेचना हेतु पुलिस अधीक्षक ग्रामीण के नेतृत्व में एक एस0आई0टी0 का गठन किया गया। एस0आई0टी0 द्वारा विवेचना के क्रम में जेल में निरूद्ध अभियुक्तगण संजय भाटी को दिनांक 13.06.19 से पांच दिवस तथा विजयपाल कसाना को दिनांक 14.06.19 से 03 दिवसीय पुलिस अभिरक्षा रिमाण्ड पर लिया गया, जिनकी निषानदेही पर कम्पनी के मुख्य कार्यालय ग्राम चीती थाना दनकौर, गौतमबुद्धनगर व अन्य कार्यालय ग्राम कोटगांव थाना दादरी, गौतमबुद्धनगर पर सर्च की कार्यवाही की गयी, जिसमंे दिनांक 15.06.19 को कम्पनी से सम्बन्धित कुल 102 मोटरसाईकिलंे (बजाज-77 व टीवीएस-25) बरामद की गयी। अभियुक्तगण द्वारा साक्ष्य को नष्ट करने के लिए कम्पनी के मुख्य कार्यालय में आग लगा दी गयी थी, जिसके प्रमाण मौके पर मिले, जिस सम्बन्ध में एस0आई0टी0 द्वारा विवेचना में सुसंगत धाराओं की वृद्धि की गयी है। कम्पनी द्वारा निवेषकों को लाभांष के रूप में दिये जाने वाले फर्जी चैक करीब 05 बोरे में भरे प्राप्त हुए, इसके अतिरिक्त अन्य अभिलेखीय साक्ष्य एवं मौके से जले हुए इलेक्ट्रानिक उपकरण बरामद हुए। इसी क्रम में अभियुक्त संजय भाटी की निषानदेही पर कम्पनी द्वारा खरीदे गये कुल 08 चारपहिया वाहन, जिन्हे विभिन्न प्रमोटर्स को निवेषकों को प्रत्साहित करने हेतु दिये गये थे, को भी बरामद किया गया। उपरोक्त के अतिरिक्त पुलिस टीम द्वारा कुल 27 चारपहियां वाहन व 02 दोपहिया वाहन जब्त किये गये हैं, जो कि कम्पनी के नाम पंजीकृत हैं व कम्पनी के कार्यो से कम्पनी के पदाधिकारियों एवं विभिन्न प्रमोटर्स द्वारा प्रयोग किये जा रहे थे।

कुल बरामदगीः-

चार पहिया लग्जरी वाहन- 35 ( रेन्ज रोवर स्पोर्ट 3.0- 01, टोयटा फारच्यूनर- 12, महेन्द्रा बोलेरो-04, मारूती ब्रेजा- 07, टाटा नेक्साॅन- 03, महेन्द्रा टीयूवी 300- 01, महेन्द्रा स्कार्पियो- 03 ) कुल अनुमानित कीमत लगभग 8.25 करोड रूपये

दोपहिया वाहन - 104 ( मोटरसाईकल बजाज-77, टीवीएस-25, बुलट-2 ) कुल अनुमानित कीमत लगभग 50 लाख रूपये

इस प्रकार अभी तक इस प्रकरण में एस0आई0टी0 द्वारा के नाम पर पंजीकृत तकरीबन 8.75 करोड कीमत के वाहनों का जब्तीकरण किया गया है।

अभियुक्तगण का विवरण-

1- संजय भाटी पुत्र रतन सिंह भाटी निवासी ग्राम चीती थाना दनकौर जनपद गौतमबुद्धनगर उम्र 42 वर्ष (षिक्षा- 10वीं तथा कैमीकल इन्जीनियरिंग में डिप्लोमा )

2- विजयपाल कसाना पुत्र भंवर सिंह नि0 म0नं0 26 अप्पू एन्कलेव पल्लव पुरम मेरठ, उम्र करीब 40 वर्ष (शिक्षा- 10वीं पास)

कार्यवाही करने वाली टीम के सदस्य-

1- निरीक्षक शीलेष कुमार, प्रभारी एन0ई0ओ0डब्लू0

2- निरीक्षक भुवनेष कुमार, प्रभारी निरीक्षक थाना एक्सप्रेस-वे

3- निरीक्षक सुनील कुमार नेगी, एन0ई0ओ0डब्लू0

4- उ0नि0 यतेन्द्र यादव, स्टार-2 टीम

5- उ0नि0 शावेज खान, प्रभारी स्वाट टीम


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it