Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > ग्रेटर नोएडा स्थित एक हॉस्टल में छोले चावल में मीट निकलने पर भड़के छात्र

ग्रेटर नोएडा स्थित एक हॉस्टल में छोले चावल में मीट निकलने पर भड़के छात्र

 Special Coverage News |  16 Sep 2019 3:01 AM GMT  |  नोएडा

ग्रेटर नोएडा स्थित एक हॉस्टल में छोले चावल में मीट निकलने पर भड़के छात्र
x

धीरेन्द्र अवाना।

ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा में उस वक्त हंगामा हो गया जब यहां पर स्थित एक हॉस्टल में बने छोले चावल में मीट निकला। वहीं नॉलेज पार्क थाना क्षेत्र में स्थित इस हॉस्टल के मामले को लेकर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

आपको बता दे कि नॉलेज पार्क थाना क्षेत्र में स्थित ऑक्सफोर्ड कैप्स हॉस्टल में रविवार रात को छात्रों को दिए गए छोले-चावल में मांस का टुकड़ा मिला। जब हास्टल में रहने वाले शाकाहारी छात्र को इस बात का पता चला तो छात्रों ने धर्म भ्रष्ट करने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। इससे नाराज होकर छात्रों ने किचन में रखे खाने व मौजूद अन्य सामान को फेंक दिया।हंगामे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी प्रकार छात्रों को शांत कराया।

छात्रों द्वारा दी गई शिकायत पर पुलिस ने हास्टल प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।छात्रों का आरोप है कि जब छात्र खाना खा रहे थे तो छोले में चिकन व पनीर के टुकड़े मिले।हड्डी के कारण चिकन पहचान में आ गया।इस पर मौजूद सभी छात्र भड़क गए। छात्रों ने बताया शाकाहारी के लिए पनीर की सब्जी और अन्य के लिए चिकन श्राद्ध शुरू होने से एक दिन पहले बना था लेकिन हॉस्टल कर्मचारियों ने छोले में बची हुई सब्जियों को मिलाकर शनिवार रात छात्रों को परोस दिया गया और जब किचन में जाकर देखा गया तो छोले में पनीर व मांस के टुकड़े और मिले।छात्रों का गुस्सा देखकर वहां पर काम करने वाले कर्मचारी सहम गये।उन्होंने गलती के लिए हाथ जोड़कर छात्रों से माफी मांगी।

हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और कार्रवाई का आश्वासन दिया।छात्रों का कहना है कि पुलिस ने आरोपियों पर अभी तक कार्रवाइ नहीं की। जिसकी वजह से शनिवार रात साढ़े आठ से लेकर तड़के तीन बजे तक छात्रों ने धरना भी दिया। छात्रों का आरोप है कि रविवार सुबह हॉस्टल प्रबंधन ने हंगामा करने पर बाउंसर बुलाने की धमकी दी। जिससे छात्र दोबारा भड़क गए। पुलिस ने छात्रों की रिपोर्ट दर्ज कर ली। छात्रों का कहना है कुछ माह पहले तक हॉस्टल को दूसरा ग्रुप चलाता था। बाद में ऑक्सफोर्ड कैप्स हॉस्टल चलाने लगा। नए ग्रुप ने लगभग तीस हजार रुपये सालाना बढ़ा दिया। लेकिन खाना व अन्य सुविधाओं में कोई सुधार नहीं किया।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it