Top
Begin typing your search...

जब अपर आयुक्त लव कुमार की प्रेस वार्ता में लगने लगे नोएडा पुलिस जिंदाबाद के नारे

जब अपर आयुक्त लव कुमार की प्रेस वार्ता में लगने लगे नोएडा पुलिस जिंदाबाद  के नारे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा पुलिस कमिश्नरेट में सोमवार की दोपहर एक प्रेस वार्ता के दौरान जमकर 'नोएडा पुलिस जिंदाबाद' के नारे लगे। एकदम अचरज भरा माहौल था। दरअसल, अमूमन पुलिस के खिलाफ ही नारेबाजी होते देखने को मिलती है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

गौतमबुद्ध नगर के एडिशनल पुलिस कमिश्नर लव कुमार ने दोपहर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें मामला एक बड़े घोटाले से जुड़ा है। जिसमें नोएडा पुलिस ने तेजी से कार्रवाई की है। जिसमें मुख्य आरोपी रिंगिंग बेल घोटाले का आरोपी मोहित गोयल आरोपी है।

इस मामले में एक गैंग ने ड्राई फ्रूट्स खरीदकर देशभर के एक हजार से ज्यादा थोक विक्रेताओं को ठगी का शिकार बनाया है। इन लोगों से 200 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी की गई है। यह ठगी दुबई ड्राई फ्रूट्स नाम से फर्जी कंपनी खड़ी करके अंजाम दी गई है। इस कम्पनी के प्रोमोटर मोहित गोयल और एमडी ओमप्रकाश जांगीड़ को नोएडा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मोहित गोयल रिंगिंग बेल कंपनी बनाकर 251 रुपये में एंड्रॉयड मोबाइल बेचने का मास्टरमाइंड था। इन आरोपियों ने नोएडा और गुडग़ांव में चार अलग-अलग नामों से फर्जी कंपनी बनाकर ड्राई फ्रूट्स खरीदे और उनके पैसे नहीं दिए। इस मामले में अभी 12 आरोपी फरार हैं। ये लोग इस साल नोएडा में कंपनी बनाकर ठगी कर रहे थे। इनके खिलाफ कोतवाली सेक्टर-58 में मुकदमा दर्ज है।

अपर पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) लव कुमार ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके यह जानकारी दी। इसी कॉन्फ्रेंस के बाद ठगी का शिकार हुए कारोबारियों ने एडिशनल कमिश्नर के दफ्तर में 'नोएडा पुलिस जिंदाबाद' के नारे लगाए हैं। लव कुमार ने बताया कि कोतवाली सेक्टर-58 पुलिस की टीम ने रविवार की शाम सेक्टर-50 से मेघदूतम अपार्टमेंट के निवासी मोहित गोयल और जयपुर के निवासी ओमप्रकाश जांगीड़ को गिरफ्तार कर लिया। इन लोगों ने सेक्टर-62 के कोरेंथम बिल्डिंग में दुबई ड्राई फ्रूट्स नाम से एक फर्जी कंपनी खोल रखी थी। ओमप्रकाश इस कंपनी का एमडी और मोहित इसका प्रोमोटर था। इन दोनों ने देशभर की विभिन्न फर्मों से संपर्क किया। उनसे ड्राई फ्रूट्स, दाल, तेल, मसाले खरीदते थे। फर्म संचालकों का विश्वास जीतने के लिए उन्हें कुछ राशि एडवांस के रूप में दे देते थे। बाद में उनसे लाखों रुपये के ड्राई फ्रूट्स या अन्य सामान लेकर पैसे नहीं देते थे।

लव कुमार ने बताया कि जांच में पता चला है कि इन लोगों ने नोएडा और गुडग़ांव में चार फर्जी कंपनियां बनाकर देशभर के करीब एक हजार से अधिक विक्रेताओं से 200 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी को अंजाम दिया है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक यह फर्जीवाड़ा करीब पांच सौ करोड़ रुपये तक का हो सकता है। सेक्टर-62 के कोरेंथम बिल्डिंग में चलने वाली दुबई ड्राई फ्रूट्स एंड स्पाइस हब के 14 अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ रोहित मोहन नामक एक कारोबारी ने मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप है कि इन लोगों ने फर्जी तरीके से कंपनी बनाई थी। विक्रेताओं से संपर्क करके ड्राई फ्रूट्स खरीदे। इसके बाद करोड़ों का माल लेकर बगैर पेमेंट दिए फरार हो गए।

इस मामले में कारोबारियों ने 20 अक्टूबर को नोएडा की कोतवाली सेक्टर-58 से शिकायत की थी। जांच के बाद इस मामले में 24 दिसंबर को मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस ने मोहित गोयल, सुमित यादव, मुसर्फिल लश्कर, विजय, नायरा सिंह उर्फ नील कमल, उज्ज्वल डे, स्वाति डे, गौरव, राजीव कुमार, रुपेश कुमार ठाकुर, ओम प्रकाश जांगिड़, स्वाति समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it