Top
Begin typing your search...

शिक्षा मन्त्रालय द्वारा आयोजित वेबिनार में नई शिक्षा नीति 2020 के प्रचार प्रसार में एनएसएस के युवाओ की भूमिका महत्वपूर्ण

शिक्षा मन्त्रालय द्वारा आयोजित वेबिनार में नई शिक्षा नीति 2020 के प्रचार प्रसार में  एनएसएस के युवाओ की भूमिका महत्वपूर्ण
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शशांक मिश्रा

आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय राज्यमंत्री किरेन रिजिजू शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक व संजय धोत्रे ने NSS,NCC,NYKS व उन्नत भारत अभियान से सम्बन्धित शिक्षको, अधिकारीयों व स्वंय सेवकों के माध्यम से राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के प्रचार प्रसार व जन जन में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से शिक्षक पर्व अभियान के तहत शिक्षा मंत्रालय एवं युवा कार्यक्रम खेल मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय वेबीनार आयोजित किया गया।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर आर आर तिवारी के निर्देशानुसार डॉ मंजू सिंह कार्यक्रम समन्वयक राष्ट्रीय सेवा योजना ने विश्वविधालय एवं संघठित महाविद्यालयों के कार्यक्रम अधिकारीयों व बड़ी संख्या में स्वयंसेवकों के साथ ऑनलाइन वेबिनार में प्रतिभगिता की। राष्ट्रीय सेवा योजना उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय निदेशक डॉ अशोक श्रुति व् राज्य सम्पर्क अधिकारी उच्च शिक्षा उत्तर प्रदेश डॉ अंशूमाली शर्मा ने अपने अधिकारियो के साथ वेबिनार में सक्रियता से प्रतिभाग किया।

शिक्षा मन्त्रालय द्वारा इस अवसर पर नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की संसाधन सामग्री की ई-बुकलेट का शुभारंभ किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में विषय प्रवर्तन करते हुए किरण रिजिजू ,युवा कार्यक्रम एवं खेल मन्त्री , भारत सरकार ने कहा कि अभी तक भारत् के 75 लाख स्वयंसेवक जुड़े हुए हैं ,अब हमारा लक्ष्य 1 करोड़ की संख्या पूरी करने का है।


उन्होंने राष्ट्रीय सेवा योजना के योगदान का उल्लेख करते हुए कहा कि स्वयंसेवकों ने वृक्षारोपण,आपदा प्रबन्धन ,जल संरक्षण, रक्तदान आदि कार्यक्रमों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया तथा कोविड19महामारी के दौरान लोगों को वांछित सहायता भी प्रदान की।

रक्षा मन्त्री राजनाथ सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि सम्पूर्ण विकास के लिए नयी शिक्षा नीति बल देती है। उन्होंने कहा कि यदि ज़िन्दगी सुधारनी है तो व्यवसाय सुधारें और पीढ़ियां सुधारनी है तो शिक्षा सुधारनी चाहिए ।इस हेतु नयी शिक्षानीति को राष्ट्रनिर्माण के लिए एक नितान्त आवश्यक उपादान बताया।


शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने अपने उद् बोधदन में कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी का विचार था कि-"अपने आप को पाने का सबसे अच्छा रास्ता यही है कि दूसरों की सेवा में खुद को समर्पित कर दें।"यह समर्पण एवं सेवाभाव ही हमारे समाज एवं राष्ट्र की नींव है।NCC,NSS एवं NYK इन तीनों 'N'से हमारे चौथे 'N' यानी नेशन फर्स्ट का विचार जन्म लेता है।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विविध पहलुओं को सविस्तार रेखाङ्कित करते हुए और उपयोगी बताते हुए कहा कि इससे न केवल देश आत्मनिर्भर होगा बल्कि विश्वगुरु भी बनेगा। शिक्षा नीति की मूलभूत बात यह है कि यह कैपेसिटी बिल्डिंग पर फोकस करती है। कैपेसिटी बिल्डिंग से नेशन बिल्डिंग का फार्मूला ही हमें सशक्त बनाएगा। चाहे छात्रों की कैपेसिटी बिल्डिंग हो या फिर शिक्षकों की या फिर संस्थानों की। सभी का साथ लिए बिना व सभी को विस्तार दिए बिना नेशन बिल्डिंग का काम संभव नहीं है।

Next Story
Share it