Top
Begin typing your search...

मौनी अमावस्या स्नान पर्व पर तीन करोड़ लोग लगाएंगे आस्था की डुबकी

मौनी अमावस्या स्नान  पर्व पर  तीन करोड़ लोग  लगाएंगे आस्था की डुबकी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शशांक मिश्रा

मौनी अमावस्या पर प्रशासन की जबरदस्त तैयारी, पूरे शहर में लोग रूट डायवर्जन और प्रतिबंध से परेशान है, कुंभ मेले में मौनी अमावस्या स्नान के लिए मेला प्रशासन ने संभावित भीड़ को देखते हुऐ यातायात डायवर्ट किया गया है। मेला अधिकारी ने बताया कि दो दिन पहले से ही मेला क्षेत्र में वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया। मेला क्षेत्र में आने वाले सभी वाहनों को 5 किलोमीटर दूर निर्धारित पार्किंग स्थल पर खड़े कराए जा रहे है।


पार्किंग स्थलों से शटल बस सेवा के जरिए श्रद्धालुओं को मेला स्थल के नजदीक लाया जाएगा। कुंभ मेला डीएम विजय किरन आनंद ने बताया कि भीड़ के मद्देनजर प्रयागराज के सभी स्कूल कॉलेज वह सरकारी दफ्तरों को दो दिन तक बंद कर दिया गया है। शहर में भी यातायात व्यवस्था को लेकर डायवर्जन किया गया हैं। उन्होंने शहर के लोगों से निवेदन किया है कि वह अपने वाहनों से दो दिन तक अधिक आवश्यकता न पड़ने पर यात्रा ना करें।


मौनी अमावस्या स्नान पर भीड़ भाड़ वाले इलाकों में अधिक लोग जमा ना होने पाए इसका विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मेला क्षेत्र में बनाए गए 40 घाटों पर श्रद्धालुओं को स्नान कराया जाएगा। संगम नोज पर अधिक भीड़ ना बढ़ने पाए इसका विशेष ध्यान रखने के लिए अधिकारियों को तैनात किया जा रहा है। मेला प्रशासन ने एडवाइजरी जारी की है कि संगम के सभी घाट पर स्नान की सुविधा दी गई है। श्रद्धालु किसी भी घाट पर स्नान कर संगम का पुण्य लाभ प्राप्त कर सकेंगे। मेला अधिकारी ने बताया कि अलग - अलग रूटों से आने वाली रोडवेज की बसों में भी श्रद्धालुओं की अपार भीड़ आ रही है । लखनऊ रूट की बसें फाफामऊ में ही रोक ली जा रही हैं।


श्रद्धालुओं को फाफामऊ घाट पर स्नान कराया जाएगा। कानपुर रूट की बसें अरैल से पहले रोकी जाएगी और उन्हें अरैल घाट पर स्नान कराया जा रहा हैं। रोडवेज की ओर से सोमवार तक शटल बसों तक लाना शुनिश्चित किया है।कुंभ के सबसे बड़े स्नान पर्व मौनी अमावस्या पर सेना भी हेलीकाप्टर के माध्यम से नजर रखेगी। किला के प्रेजीडेंट व्यू प्वाइंट पर सैनिकों की टुकड़ी तैनात रहेगी। सेना के अलावा पुलिस का हेलीकाप्टर तैनात रहेगा। पुष्प वर्षा के लिए अलग हेलीकाप्टर होगा। ड्रोन से भीड़ और यातायात पर लगातार नजर रखी जाएगी। जरूरत पडऩे पर रास्तों का डायवर्जन भी किया जाएगा। रविवार को ब्रीफिंग के बाद फोर्स को ड्यूटी प्वाइंट पर तैनात कर दिया गया है। बहुत ज्यादा भीड़ बढऩे पर इमरजेंसी प्लान भी तैयार किया गया है। उसके लिए अलग से फोर्स को तैयार रखा गया है।

Next Story
Share it