Top
Begin typing your search...

प्रयागराज में पानी टंकी के ओवर हेड पर चढ़ा है परिवार, 48 घंटे बाद भी नहीं मिला कोई भरोसा

प्रयागराज में पानी टंकी के ओवर हेड पर चढ़ा है परिवार, 48 घंटे बाद भी नहीं मिला कोई भरोसा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

एक दंपत्ति परिवार सहित पानी टंकी पर अपनी मांगों को लेकर चढ़ा। पानी टंकी के पास लोगों की लगी भीड़ परिवार को मनाने में जुटी।

प्रयागराज। हरदोई के रहने वाले अधिवक्ता विजय प्रताप शनिवार सुबह परिवार समेत बेली स्थित पानी टंकी पर चढ़ गए। यह देखकर लोगों के होश उड़ गए। सूचना पाकर कैंट समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस-प्रशासन के अफसर भी पहुंचे। टंकी पर चढ़े परिवार सहित अधिवक्ता को नीचे उतरने को कहा, लेकिन कई मामले की सीबीआइ जांच कराने की मांग की गई।

अफसरों ने मामला हरदोई का बताया तो अधिवक्ता ने चेतावनी दी कि भूख हड़ताल में अगर किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न किया गया तो पेट्रोल छिड़ककर परिवार समेत आत्मदाह कर लेगा। हरदोई के रहने वाले विजय प्रताप अधिवक्ता हैं। शनिवार सुबह करीब सात बजे अपने परिवार के पांच सदस्यों के साथ वहां कैंट के बेली मुहल्ले में पहुंचे। उस समय वहां सन्नाटा था। विजय प्रताप समेत छह लोग सीढ़ी के सहारे पानी की टंकी पर चढ़ गए। कुछ देर बाद उधर से गुजर रहे लोगों की नजर उन पर पड़ी तो दंग रह गए। पलभर में पूरे मुहल्ले के लोगों के बीच यह खबर फैल गई। लोग मौके पर पहुंचे और सभी से नीचे उतरने को कहा, जिस पर इन्कार कर दिया गया।

सूचना पाकर कैंट इंस्पेक्टर नीरज बालिया मौके पर पहुंचे। उन्होंने विजय प्रताप से नीचे उतरने को कहा तो उन्हें वापस लौट जाने को कहा। मामला गंभीर देख इंस्पेक्टर ने पुलिस-प्रशासन के अफसरों को सूचना दी। कुछ ही देर में कई थानों की पुलिस, अधिकारी, दमकल कर्मी, एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई। अधिकारियों ने विजय प्रताप से नीचे उतरने को कहा, जिस पर वह बोला कि हरदोई में उसके भाई को गायब कर दिया गया। जमीन पर कब्जा कर घर फंसा दिया गया।

डीएम हरदोई पर आरोप लगाया कि उन्होंने उसे गांव से भगा दिया। गांव का एक दबंग इतना शक्तिशाली है कि उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है। दबंग का भाई डीआइजी कार्यालय में दारोगा है। इसलिए इस पूरे प्रकरण की सीबीआइ जांच होनी चाहिए। अधिकारियों ने मामला हरदोई का होना बताया तो उसने कहा कि अगर कुछ नहीं कर सकते तो उसे परिवार समेत टंकी पर भूख हड़ताल पर बैठने दिया जाए। इसमें अगर कोई व्यवधान उत्पन्न किया गया तो उसके पास 20 लीटर पेट्रोल है, जिसे छिड़ककर वह परिवार समेत आत्मदाह कर लेगा।

इंस्पेक्टर नीरज बालिया का कहना है कि विजय प्रताप अधिवक्ता है। बहुत समझाने के बाद भी वह पानी की टंकी से नीचे नहीं उतर रहा है। उसे मनाने की कोशिश हो रही थी। उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा। विजय प्रताप ने इससे पहले हरदोई और लखनऊ में भी ऐसा किया है। हरदोई में दो और लखनऊ में एक बार वह पानी की टंकी पर चढ़ चुका है। बार-बार वह मामलों को लेकर सीबीआइ जांच की मांग कर रहा है, जबकि मामला हरदोई न्यायालय में चल रहा है।

Next Story
Share it