Top
Begin typing your search...

प्रयागराज एन.डी.आर.एफ ने कुम्भ में बचायी विदेशी महिला सहित तीन लोगों की जान, इटली की महिला ने दिया यूपी पुलिस को धन्यवाद

प्रयागराज एन.डी.आर.एफ ने कुम्भ में बचायी विदेशी महिला सहित तीन लोगों की जान, इटली की महिला ने दिया यूपी पुलिस को धन्यवाद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मानवता की रक्षक एन.डी.आर.एफ ने स्वस्थ कुम्भ सुरक्षित कुम्भ को सार्थक करते हुए प्रयागराज में स्नान के लिए आयीं इटली की रहने वाली उम्र 63 साल मिस कटरीना की गंगा नदी मे डूबने से बचाकर उनके प्राणों की रक्षा की। मिस कटरीना ने यूपी पुलिस को अपनी जान बचाने पर धन्यवाद दिया।

21 जनवरी के शाही स्नान के दिन समय लगभग 13 :30 बजे ईटली की कैटरीना संगम नोज घाट पर स्नान कर रही थी कि तभी अचानक वो फिसलकर गहरे पानी में डुबने लगी। यह देखकर पास ही में तैनात एन.डी.आर.एफ. की टीम के रेस्क्युअर ने तुरन्त महिला को बचाने के लिए पानी में छलांग लगा दी और महिला को गहरे पानी से बाहर निकाल कर एन.डी.आर.एफ. की आधुनिक चिकित्सा उपकरणों से सुसज्जित वाटर एम्बुलेन्स में ले गये। महिला की हालत अत्यन्त गंभीर थी और उन्हें सांस लेने में भी परेशानी हो रही थी एन.डी.आर.एफ. की वाटर एम्बुलेस में तैनात डां. अनित नन्दन त्रिपाठी, सहायक कमाण्डेंट (चिकित्साधिकारी) ने मेडीकल टीम के साथ महिला का पूरा परीक्षण किया और जीवन रक्षक उपचार देते हुए उन्हें आक्सीजन, नेबुलाईजेशन, ई.सी.जी. परीक्षण कर उनकी जान बचाई। महिला की हालत सामान्य होने के पश्चात एन.डी.आर.एफ. की चिकित्सा टीम ने महिला को केन्द्रीय अस्पताल में भर्ती कराया जहां महिला पुरी तरह से स्वस्थ है। अस्पताल में महिला से मिलने के लिए ईटली से आए कई सैलानी मित्रों का तांता लग गया और उनको स्वस्थ देखकर विदेशी यात्री एन.डी.आर.एफ. की त्वरित कार्यवाही और मानव सेवाभाव से प्रभावित होकर उनका तहे दिल से आभार व्यक्त किया व धन्यवाद दिया।


पीड़ित महिला कैटरीना की बेटी मिस क्वातरोची ने बातचीत के दौरान बताया कि "जब मेरी माँ पानी में डूब रही थीं तो एन.डी.आर.एफ. की टीम ने जिस तेजी के साथ मेरी माँ को बचाया वह अत्यन्त सराहनीय है और मैंने पूरे विश्व में ऐसी प्रोफेशनल डिजास्टर रेस्क्यू फोर्स नहीं देखी जो इतनी कर्तव्य निष्ठा के साथ मानव सेवा में लगी हुई है। निश्चित रुप से एन.डी.आर.एफ. जैसे आपदा बल और प्रशासन की कड़ी मेहनत के कारण ही विश्व के इस महा आयोजन को सफल बनाया जा सका है।"

एक अन्य घटना में 21 जनवरी को ही सुबह 1040 बजे सेक्टर 18 अरेल प्रयागराज में घाट पर स्नान करते समय 17 वर्ष के आदर्श पुत्र धीरेन्द्र कुमार सिंह, निवासी- हाथा प्रयागराज अचानक बेहोश होकर नदी में डूबने लगा। तभी पास ही में रेस्क्यु बोट के साथ तैनात एन.डी.आर.एफ. के रेस्क्युअरस ने युवक को डूबते देख तुरन्त पानी में छलांग लगा दी और गहरे पानी से युवक को बाहर निकाल कर उसकी जान बचाई। तत्पश्चात बेहोश युवक को एन.डी.आर.एफ. मेडीकल बेस पर लाया गया जहां उसके पेट से पानी निकाला गया और आवश्यक उपचार देते हुए उसके हालत में सुधार किया गया। पूरे परीक्षण के पश्चात एन.डी,आर.एफ. ने पाया कि युवक निम्न रक्तचाप के कारण ठंडे पानी में नहाने से बेहोश हुआ था जिसे कुछ समय पश्चात स्वस्थ होने पर युवक को उसके परिवारीजनों को सौंप दिया गया ।

एक अन्य तीसरी घटना में दोपहर 1415 बजे 65 वर्षीय वृद्ध रामविलास पुत्र भिखारी सिंह निवासी बीरपुर, जिला हरदोई पन्टून पुल संख्या- 12 के पास स्नान करते समय पैर फिसलने से गहरे पानी में डूबने लगे। समीप ही तैनात एन.डी.आर.एफ. के रेस्क्युअर ने वृद्ध डूबते हुए देखते ही तुरन्त पानी में छलांग लगा दी और तेज जलधारा में से बाहर निकाल कर उनके प्राणों की रक्षा की। तत्पश्चात वृद्ध को एन.डी.आर.एफ. मेडीकल पोस्ट पर लाया गया जहां पर एन.डी.आर.एफ. ने उपचार किया और आवश्यक उपचार देते हुए उसके हालत में सुधार किया गया। पश्चात अग्रिम उपचार हेतु वृद्ध को सेन्ट्रल होस्पीटल में रेफर किया गया ।

कुम्भ प्रयागराज में तैनात एन.डी.आर.एफ. की टीमें पूरी कार्यकुशलता, कर्तव्यनिष्ठा और मानवसेवा के साथ देश-विदेश से आये श्रद्धालुओं के जीवन की रक्षा कर रही हैं जिसके तहत अब तक एन.डी.आर.एफ. की टीमों ने कुल 11 लोगों के जीवन की रक्षा की और पूरे मेले में विभिन्न स्थानों पर तैनात की गई मेडीकल पोस्ट की सहायता से 3500 से अधिक श्रद्धालुओं को दवा भी वितरण की गई।

Next Story
Share it