Top
Begin typing your search...

पुलिस ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हॉस्टल पर मारा छापा , 20 हजार का इनामी गिरफ्तार असलहे किए बरामद

पुलिस ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हॉस्टल पर मारा छापा , 20 हजार का इनामी गिरफ्तार असलहे किए बरामद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शशांक मिश्रा

इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रावासों को अपराधियों से मुक्त करने के लिए कमर कस ली है. इसी कड़ी में आज ताराचंद छात्रावास से 20,000 हजार के इनामी अपराधी आकाश सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। आकाश सिंह की गिरफ्तारी के बाद पुलिस प्रशासन और क्राइम ब्रांच ने मिलकर छात्रावास में सर्च अभियान चलाया । यह सर्च अभियान शाम 4 बजे से 7 बजे तक चला। आकाश सिंह कभी भी विश्वविद्यालय का छात्र नहीं रहा पर वह ताराचंद छात्रावास के कक्ष से गिरफ्तार किया गया। इससे साफ है कि विश्वविद्यालों के हॉस्टल में अपराधी तत्व रहते हैं।

आज ताराचंद छात्रावास में उन कमरों की पहचान भी की गई जिन्हें अपराधियों ने अपने कब्जे में ले रखा था। यह कमरे हैं 6/18 ,6/ 29, 6/ 39 और 6/ 32 तथा हॉस्टल के दो स्टोर रूम में भी इन अपराधियों का कब्ज़ा था। छात्रावास में चले छापामारी के दौरान विश्वविद्यालय प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने इन सारे कमरों के ताले तोड़े और इन कमरों से कई विस्फोटक सामग्री भी बरामद की । छापेमारी के बाद इन कमरों को सील कर दिया गया।

पुलिस की मौजूदगी में ताराचंद छात्रावास के कमरा संख्या 6 / 29 का ताला तोड़ा गया और सीओ कर्नलगंज आलोक मिश्रा तथा इंस्पेक्टर कर्नलगंज सत्येंद्र सिंह ने उस कमरे से एक पिस्टल और दो मैगजीन की बरामदगी की।

पूरे हॉस्टल में छापामारी के दौरान तकरीबन 2 किलो बारूद पाउडर और कुछ जिंदा बम भी बरामद किए गए। विश्वविद्यालय प्रशासन ने इन चार कमरों और दो स्टोर रूम को सीज कर दिया । बम होने की आशंका के कारण पुलिस प्रशासन ने बम निरोधक दस्ते को भी बुला लिया था। इस अभियान में विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर, डीएसडब्ल्यू, सुरक्षा अधिकारी, पीआरओ तथा ताराचंद हॉस्टल के सुपरिटेंडेंट मौजूद थे।

जन संपर्क अधिकारी इविवि चित्तरंजन कुमार ने बताया कि " विश्वविद्यालय प्रशासन के पास कई हॉस्टलों के ऐसे संदिग्ध कमरों की सूची है. जिन पर बहुत जल्द ही सख्त कार्रवाई होगी. विश्वविद्यालय अपराधी मुक्त छात्रावास अभियान के लिए प्रतिबद्ध है. जिससे आम छात्रों को छात्रावास की सुविधा दी जा सके। "

Next Story
Share it