Top
Begin typing your search...

बर्थडे पार्टी में इनामी छात्रनेता की गोली मारकर हत्या, परिजनों का रो रोकर बुरा हाल

बर्थडे पार्टी में इनामी छात्रनेता की गोली मारकर हत्या, परिजनों का रो रोकर बुरा हाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शशांक मिश्रा

इलाहाबाद विश्व विद्यालय चुनावी विजय रणनीति का उभरता चेहरा जिस पर पचीस हजार का इनाम प्रशासन ने लगा रखा था ! इनामी छात्र नेता अच्युतानंद शुक्ला उर्फ सुमित शुक्ला की आज आधी रात को चल रही बर्थडे पार्टी में गोली मारकर हत्या कर दी गई। जिसके बाद विश्वविद्यालय सहित पूरे शहर में तनाव का माहौल बना हुआ है। बता दें कि बुधवार की देर रात विश्वविद्यालय की पीसीबी छात्रावास में पार्टी चल रही थी।




इस दौरान सुमित शुक्ला को गोली मारी गई। गोली लगने के बाद सुमित शुक्ला को आनन.फानन में स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल में भर्ती कराया गया।जहां तकरीबन रात दो बजे उसकी मौत हो गई। सुमित की हत्या की खबर सुनते ही उसके समर्थकों का हुजूम देर रात एसआरएन पंहुचना शुरू हो गया।छात्र नेता से जुड़े मामले को देखते हुए पुलिस प्रशासन सतर्क है।और कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई।




अच्युतानंद शुक्ला उर्फ़ सुमित शुक्ला इलाहाबाद विश्वविद्यालय का पूर्व छात्र नेता रहा है।बीते पांच सालों से छात्र संघ चुनाव में अपना दबदबा कायम किया हुआ है।सुमित 2012 के चुनाव में उपाध्यक्ष पद का उम्मीदवार रहा और जेल से चुनाव छात्रसंघ का चुनाव लड़ा हालाकि इस चुनाव में सुमित को जीत नही मिली थी। दरअसल अभी हाल में बीते छात्र संघ चुनाव के दौरान पुलिस ने 25000 का इनाम घोषित किया था। इसके बाद से सुमित फरार चल रहा था।


वही देर रात गोली लगने की खबर पर विश्वविद्यालय के सभी छात्रावासों में हड़कंप मचा हुआ है।हालांकि सुमित शुक्ला को गोली क्यों मारी यह अभी साफ नहीं हो सका है सूत्रों की माने तो एक डिग्री कॉलेज के मौजूदा छात्र संघ अध्यक्ष जिसे अच्युतानंद शुक्ला ने ही विजय हासिल करने में अपना पूर्ण सहयोग दिया उसी ने उस पर गोली चलाई है।गोली लगने परगम्भीर हालत में सुमित शुक्ला को एस आर एन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। देर रात अस्पताल में इलाज़ के दौरान हुई मौत, घटना के बाद परिजनों का रो रोकर बुरा हाल है।

Next Story
Share it