Top
Begin typing your search...

यूपी में तीन डीजी और एक एसपी हुए आज सेवानिवृत्त, डीजीपी ने अपने संबोधन में कही पुलिस को लेकर बड़ी बात

यूपी पुलिस में एक साथ तीन डीजी स्तर के अधिकारी एक साथ रिटायर हो रहे है.

यूपी में तीन डीजी और एक एसपी हुए आज सेवानिवृत्त, डीजीपी ने अपने संबोधन में कही पुलिस को लेकर बड़ी बात
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह आज सेवानिवृत्त हो रहे है. उनके साथ है आज डीजी विशेष जांच महेंद्र मोदी, डीजी इंटेलिजेंस भावेश कुमार सिंह और एसपी पीटीएस सुनील कुमार सिंह भी आज सेवानिवृत्त हो रहे है. यह पहला मौका है जब यूपी पुलिस में एक साथ तीन डीजी स्तर के अधिकारी एक साथ रिटायर हो रहे है.

उन्होंने आज यूपी पुलिस के द्वारा आयोजित विदाई समारोह की सलामी लेते हुए अपने विचार भी रखे. उन्होंने कहा कि पुलिस की सेवा केवल नौकरी नहीं बल्कि वर्दी धारण करने का सौभाग्य प्राप्त कर जनसेवा जैसे पुण्य कर्म करने का अवसर मिलना एक वरदान से कम नहीं है. यही एक सेवा है जो ऐसे अधिकार प्रदान करती है, जिससे हम सर्वसमाज, पीड़ितों, महिलाओं, कमजोर वर्ग के लोगों को त्वरित न्याय दिला सकते है.

उन्होंने कहा कि यूपी पुलिस के 57वें पुलिस प्रमुख के रूप में विश्व के विशालतम पुलिस बल का नेतृत्व करने का मुझे अवसर मिला, इसके लिए आप सभी का हृदय से धन्यवाद! किसी भी अधिकारी का सफल सेवाकाल उसके द्वारा अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन साथी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के योगदान से ही सम्भव है.

उन्होंने कहा कि पुलिस परिवार कि बेहतरी के लिए कल्याणकारी योजनाओं के तहत उ०प्र० के 36 जनपदों में लगभग 250 अस्पतालों में CGHS की दर पर चिकित्सा सुविधाओं, सब्सिडियरी कैंटीनों का शुभारम्भ, चिकित्सा प्रतिपूर्ति, जीवनरक्षा निधि से आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने से स्वास्थ्य प्रबंधन बेहतर होगा.

डीजीपी ने कहा, मेरी सेवानिवृत्ति के अवसर पर आज सम्मान पाकर अभिभूत हूँ।आज की परेड के लिए अपर पुलिस महानिदेशक पीएसी और पुलिस आयुक्त लखनऊ समेत सभी पुलिसकर्मियों को बधाई देता हूं। सबसे बड़े पुलिसबल का मुझे जो नेतृत्व करने का अवसर मिला उसे बयां नही कर सकता। जो भी उपलब्धियां रहीं हैं मेरे सेवाकाल में आपके सहयोग से ही सम्भव हुआ है ।

पुलिस की सेवा एक नौकरी नहीं पुण्य जनसेवा वरदान से कम नहीं ।इस विभाग से समाज की अपेक्षाएं प्रतिदिन बढ़ रहीं हैं। यूपी पुलिस के लिए बीता वर्ष ऐतिहासिक उपब्धियों से भरा रहा है ,लखनऊ और गौतमबुद्ध नगर में पुलिस आयुक्त प्रणाली उत्तर प्रदेश पुलिस की भविष्य में दशा और दिशा व्यक्त करेगी

दोनो पुलिस कमिश्नरों को धन्यवाद देता हूँ और आशा करता हूँ कि वो हमारी कसौटियों पर खरे उतरेंगे। एकीकृत आपात सेवा 112 का शुभारंभ किया गया ।अमेरिका जैसे विकसित देश को पछाड़ते हुए विश्व मे इसे तीसरा स्थान मिला।

साइबर क्राइम अगेंस्ट वीमेन में बड़ा काम किया। ई कोर्ट का शुभारंभ हुआ,twitter पर 7000 fir हुईं,62वीं अखिल भारतीय पुलिस ड्यूटी मीट हुई,साईबर अपराध के लिए साइबर क्राइम इन्वेस्टिगेशन के लिए वर्कशॉप हुई।

कानून व्यवस्था के क्षेत्र में,कुम्भ और अयोध्या प्रकरण के समय पुलिस की सराहना हुई,संगठित अपराध के मामले में कार्रवाई की। 5 पुलिस के जवान शहीद हुए, फर्रुखाबाद में 21 बच्चों को छुड़ाया बंधक बनाने वाला व्यक्ति पुलिस इनकाउंटर में मारा गया,Pocso में ऐतिहासिक समय मे अपराधियों को सजा दिलाई,बलातकार में 28 प्रतिशत की कमी आई पदोन्नति और भर्ती में हमारा ध्यान रहा ।कुल 121 आईपीएस अधिकारियों की पदोन्नति हुई,46 हजार से ज्यादा पदोन्नतियां की गईं। आगे की कार्यवाही प्रचलित है। 5 हजार पुलिस अधिकारियों को सम्मान दिया गया।

पुलिस परिवार के लिए अधिक से अधिक किया जा सके इसके लिए आगे भी करना है। चुनौतियों पर आगे भी खरा उतरना है आज 37 साल की सेवा के उपरांत अच्छा और बुरा दोनो लग रहा है। अच्छा इसलिए क्योंकि पिछले 2 साल तक कर्तव्यनिष्ठा के साथ काम किया बुरा इसलिए क्योंकि आज विदा ले रहा हूँ।

जितने भी पुलिस कर्मचारी और अधिकारी हैं उन्हें अपने और परिवार की ओर से बधाई और शुभकामनाएं देता हूँ।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it