Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सहारनपुर > देवबन्द की महिलाओं ने भी भरी CAA,NRC व NPR के ख़िलाफ़ हुंकार

देवबन्द की महिलाओं ने भी भरी CAA,NRC व NPR के ख़िलाफ़ हुंकार

महिलाओं का कहना था कि चलिए हम आपकी बात मान लेते हैं कि हम घर चले जाए क्या हमें आप आश्वस्त कर सकते हो कि CAA , NRC व NPR में कोई संघ का एजेंडा लागू नहीं होगा

 Shiv Kumar Mishra |  28 Jan 2020 5:42 PM GMT  |  सहारनपुर

देवबन्द की महिलाओं ने भी भरी CAA,NRC व NPR के ख़िलाफ़ हुंकार

देवबन्द से तौसीफ़ क़ुरैशी

देवबन्द। मुम्बई , लखनऊ आदि शहरों से होता हुआ देवबन्द पहुँचा दिल्ली का शाहीन बाग , गैर ज़रूरी क़ानून CAA और NRC NPR के ख़िलाफ़ ईदगाह मैदान में महिलाओं का धरना-प्रदर्शन जारी, मोदी , योगी सरकार को ललकारते हुए महिलाओं ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं से नरेंद्र मोदी सरकार बहुत प्यार दिखाती थी जो महज़ दिखावा था क्योंकि पिछले एक महीने से ज़्यादा हो गया है महिलाओं को सड़कों पर संघर्ष करते हुए लेकिन उनका फ़र्ज़ी प्यार भी दिखाई नहीं दिया है जिन महिलाओं को वह यह कहते थे कि उनको पाबंदियों में रखा जाता है और उनको खुलकर जीने की आज़ादी नहीं है जब आज वही महिलाएँ खुलकर जीने का सबूत दे रही हैं और अपने हक़ों की लड़ाई लड़ रही हैं तो उन पर 500-500 लेकर बैठने का घिनौना आरोप लगाकर उनको बदनाम किया जा रहा है उनकी पार्टी के बद ज़बान प्रवक्ता इस तरह की भाषा का प्रयोग कर रहे हैं जो एक इंसान नहीं कह सकता सिर्फ़ जानवर ही कह सकता है।

पूरी रात होती रही तेज बारिश भी महिलाओं के मज़बूत इरादों को डिगा नहीं पाई कड़कड़ाती हाड़ कंपा देने वाली ठंड भी देवबन्द की महिलाओं के मज़बूत इरादों को रोक नहीं पायी देवबन्द के ईदगाह मैदान में मज़बूती से डटी रही।रात दो बजे के बाद पुलिस के अफ़सरों ने महिलाओं के बीच जाकर उनसे धरने को ख़त्म करने की पुरज़ोर अपील की लेकिन महिलाओं ने पुलिस के अफ़सरों को साफ़ कह दिया कि जब तक नरेंद्र मोदी सरकार ग़ैर ज़रूरी क़ानून CAA वापिस नहीं लेती तब तक हमारा शान्ति पूर्ण गांधीवादी आंदोलन चलता रहेगा रात दो बजे महिलाओं के बीच एसपी ग्रामीण गए जिन्होंने मौसम का हवाला देकर महिलाओं से घर जाने के लिए कहा लेकिन महिलाओं के सवालों का एसपी ग्रामीण विद्या सागर मिश्र के पास कोई जवाब नहीं था।

महिलाओं का कहना था कि चलिए हम आपकी बात मान लेते हैं कि हम घर चले जाए क्या हमें आप आश्वस्त कर सकते हो कि CAA , NRC व NPR में कोई संघ का एजेंडा लागू नहीं होगा क्या हमें आप ये आश्वस्त कर सकते हैं आसाम में हुई NRC से हमारे 19 लाख हिन्दुस्तानी भाइयों को डिटेंशन सेंटरों में नहीं डाला जाएगा इसमें कोई हिन्दू मुसलमान सिख ईसाई नहीं होगा नहीं न इस लिए हम यहाँ से एक इंच पीछे हटने को तैयार नहीं है जैसे देश का गृहमंत्री कह रहे हैं कि सरकार CAA पर एक इंच पीछे नहीं हटेगी ऐसे ही हम भी वापिस लेने तक पीछे नहीं हटेंगे।

पुलिस और महिलाओं के बीच रात दो बजे से वार्ताओं का सिलसिला कई दौर में चलते-चलते सुबह हो गई लेकिन कोई हल नहीं निकला। इस वार्ता में पूर्व विधायक माविया अली भी मौजूद रहे।SSP दिनेश कुमार प्रभु भी रातभर थाना देवबन्द में मौजूद रहे। दिनभर लगातार बढ़ती जा रही थी महिलाओं की भीड़, जैसे-जैसे महिलाओं की भीड़ बढ़ रही थी तो पुलिस के अफ़सरों की साँसें फुलने लगती थी ज़्यादातर महिलाएं मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के मर्द रजाई में महिलाएं सड़कों पर वाले बयान पर भड़की हुई थी जिसकी महिलाओं ने कड़े शब्दों में निंदा की।भारी पुलिस फ़ोर्स तैनात रही लेकिन महिलाओं के हौसले व हिम्मत को डिगा नहीं पा रही है।इसी दौरान नेताओं ने भी अपनी नेतागीरी चमकाने का प्रयास शुरू कर दिए हैं ।

सहारनपुर की सियासत में पिछले चालीस सालों से राज कर रहे परिवार के सदस्य महिलाओं के धरने को संबोधित करने के लिए ज़िद करने लगे जबकि वहाँ इंतज़ाम में लगे लोगों का कहना था कि यह महिलाओं का धरना-प्रदर्शन है सिर्फ़ महिला ही बोलेगी लेकिन जनता में अपनी छवि को चमकाने की वजह से हमज़ा मसूद अड़े हुए थे कि मैं संबोधित ज़रूर करूँगा इस बहस में वहाँ का माहौल तनावपूर्ण हो गया हमज़ा मसूद के साथ आए उनके दो तीन समर्थक भी यही चाहते थे कि हमज़ा बोल ले लेकिन वहाँ ज़्यादातर लोग नहीं चाहते थे कि वह न बोले इस लिए मजबूरन उन्हें स्टेज से नीचे उतरना पड़ा देखने वालों का तो कहना है कि उनको मंच से नीचे खींचा गया तब जाकर उतरे नहीं तो उतर ही नहीं थे वहाँ के लोगों का कहना है कि मसूद परिवार अब तक सहारनपुर जनपद में CAA के विरोध में कोई कार्यक्रम करने की हिम्मत नहीं कर पाया इस लिए वह कहीं कार्यक्रम होने पर पहुँच जाते है बोलने के लिए इतना बड़ा सहारनपुर है कहीं भी कार्यक्रम कर विरोध प्रदर्शन कर सकता है लेकिन पुलिस की लिस्ट में अपना नाम लिखवाने के लिए ऐसा नहीं कर पा रहा है और दूसरों के कार्यक्रम में बिना बुलाए पहुँच जा रहे हैं जब वहाँ विरोध हुआ तो भागते नज़र आए।

अब समझ आया इस तरह का आंदोलन करना या सोचना कितना मुश्किल होता है शाहीन बाग या अन्य बाग किस तरह चल रहे होंगे इसका अंदाज़ा ही लगाया जा सकता है लेकिन फिर भी मज़बूत इरादे इस तरह की या फिर किसी और तरह की दुश्वारियों को झेलते हुए अपने काम को अंजाम देते हैं।देवबन्द लखनऊ या मुम्बई जहाँ-जहाँ भी CAA NRC NPR को लेकर आंदोलन हो रहे हैं वहाँ के लोग अपनी एकता का सबूत दें और इस आंदोलन को गांधीवादी तरीक़े से चलाए कोई बुराई नहीं है लेकिन इसको हिंसात्मक नहीं होने दे तभी कहा जा सकता है कि इतना बड़ा आंदोलन हुआ और कोई हिंसा नहीं हुई यह भी इस आंदोलन की सफलता होगी हाँ अगर सरकार ही झगड़ा कराने पर उतारू हो जाए उसका कोई इलाज नहीं है वैसे देखा जाए तो देशभर में कहीं भी आंदोलन करने वाले आंदोलकारी यही चाह रहे हैं कि आंदोलन गांधीवादी तरीक़े से ही चले और इसमें कुछ एक घटनाओं को छोड़ दें तो आंदोलन सही ही चल रहा है जहाँ भी कुछ हुआ है वहाँ की सरकार ने ऐसा चाह तब ऐसा हुआ वर्ना नहीं। देवबन्द के बाद अब अगला आंदोलन रूपी बाग कहाँ बनेगा क्या देश में अभी और ऐसे बाग बनेंगे या बस इन्हीं बागों के सामने गुटने टेक देगी नरेन्द्र मोदी सरकार यह एक सवाल बना हुआ है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top