Top
Begin typing your search...

पूर्व गृहराज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ मुकदमा दर्ज

पूर्व गृहराज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ मुकदमा दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शाहजहांपुर। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर लापता हुई एसएस लॉ कॉलेज की छात्रा के मामले में छात्रा के पिता की तहरीर पर पुलिस ने देश के पूर्व गृहराज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। एसपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की जानकारी मीडिया को दी। वहीं स्वामी चिन्मयानंद से 5 करोड़ की फिरौती मांगने वालों को गिरफ्तार करने के प्रयास में पुलिस लगातार दबिश दे रही है।

देर रात एसपी कार्यालय में पुलिस अधीक्षक डॉ. एस चिनप्पा ने मीडिया से बातचीत करते हुए इस हाई प्रोफाइल मामले की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 22 अगस्त को स्वामी चिन्मयानंद से किसी अज्ञात व्हाट्सएप नम्बर से 5 करोड़ की मांग की गई थी, नही देने पर उनका अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी दी गई। जिसमे स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओमसिंह की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

वहीं 24 अगस्त को एसएस लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली एक छात्रा ने सोशल मीडिया में एक वीडियो को वायरल कर कथित रूप से किसी संत पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसके बाद छात्रा के पिता ने स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ चौक कोतवाली में तहरीर दी थी। पहले पुलिस ने मामला गुमशुदगी में दर्ज किया लेकिन मामला मीडिया में तूल पकड़ने के बाद आज इसमे डीजीपी के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने पूर्व गृहराज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ आईपीसी की धारा 364 व 506 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एसपी ने बताया कि घटना की जांच में टीम को लगाया गया है जो भी दोषी होगा कार्यवाही की जायेगी।

आखिर यह मामला है क्या

ये शक्तिशाली राजनीतिज्ञ स्वामी चिन्मयानंद हैं, जो अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में आंतरिक मामलों के राज्य मंत्री थे। वह 1999 में भाजपा के टिकट पर जौनपुर से लोकसभा के लिए चुने गए। इससे पहले, वह 1991 में बदायूं से संसद सदस्य और 1988 में मछलीशहर से सांसद चुने गए थे।

मामला तूल पकड़ते देख यूपी के डीजीपी के हस्तक्षेप के बाद इस मामले में चिन्मयनन्द के खिलाफ आईपीसी की धारा 364 और 506 के अंतर्गत एफआईआर दर्ज कर ली गई है ।

चिन्मयानंद ने 2011 में ऐसे ही मामलों की वजह से सुर्खियों में रहे, जब उनके आश्रम में सालों से रह रही एक लड़की उन पर अपहरण और बलात्कार का आरोप लगाया। हालाकी अप्रैल 2018 में यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने उनके खिलाफ मामला वापस ले लिया था।

ताजा मामले में लापता हुई लड़की शाहजहांपुर के स्वामी शुकदेवानंद लॉ कॉलेज की छात्रा है। कॉलेज की वेबसाइट बताती है कि यह रोहिलखंड विश्वविद्यालय से संबद्ध है। कॉलेज की मैनेजमेंट कमेटी के अध्यक्ष भी खुद स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती ही हैं।

पीड़ित लड़की ने खुद का वीडियो शूट किया और 24 अगस्त को अपने फेसबुक पेज पर अपलोड किया, उसका आरोप था कि वह कॉलेज से एलएलएम कर रही है और संत समाज का एक बड़ा नेता कई लड़कियों के जीवन को नष्ट कर रहा है, उसे जान से मारने की धमकी दे रहा है। लड़की यह दावा करती है कि उसके पास इस व्यक्ति के खिलाफ सभी सबूत हैं और इस वजह से ये व्यक्ति उसके परिवार को मारने की धमकी भी दे रहा है। वीडिओ में लड़की प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से मदद की अपील करती नजर आ रही है क्योंकि 'संन्यासी' उसे धमकी दे रहा है और पुलिस और जिला मजिस्ट्रेट उसकी तरफ हैं।

25 अगस्त को, लड़की के पिता ने स्थानीय पुलिस से शिकायत की है कि उसकी बेटी गायब है, उसका सेल फोन बंद है और उसका हॉस्टल का कमरा बंद है। कॉलेज का कोई भी व्यक्ति परिवार को कुछ नहीं बता रहा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि स्वामी चिन्मयानंद और उनके गुर्गे उनकी बेटी और परिवार को धमका रहे थे।

उन्होंने अपील की है कि पुलिस को मीडिया की उपस्थिति में छात्रावास के कमरे को सील कर देना चाहिए जहां उसकी बेटी रह रही थी, ताकि सबूत नष्ट न हो। पुलिस ने अभी तक मामला दर्ज नहीं किया है और गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की है।

अगले दिन, स्वामी चिन्मयानंद के कानूनी प्रतिनिधि ने अपने पक्ष को एक शिकायत के साथ पुलिस को सौंपा। शिकायत में कहा गया है कि स्वामी चिन्मयानंद को धमकी भरे फोन आ रहे हैं। शिकायत में कहा गया है कि अज्ञात कॉलर धमकी दे रहा है कि अगर पैसे का भुगतान नहीं किया गया, तो वह नेता के कुछ संपादित / रूपांकित फुटेज को वायरल करेगा और उसे सार्वजनिक रूप से बदनाम करेगा।

स्थानीय पुलिस और स्वामी चिन्मयानंद दोनों ही इस मुद्दे पर खामोश हैं और कई कोशिशों के बावजूद उनसे संपर्क नहीं किया जा सका।

मामला अजीब और काफी जटिल लग रहा है। आरोप लगाने के फौरन बाद ही लड़की हवा में विलीन हो गई है । अब अगर पुलिस इस लड़की के मामले में भी कार्यवाही करने में देरी करती है तो विधायक कुलदीप सेंगर प्रकरण की हाई प्रोफाईल केस के बाद यह मामला भी एक बड़े विवाद में तब्दील हो सकता है ।

Special Coverage News
Next Story
Share it