Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सुल्तानपुर > सुल्तानपुर में मेनका गाँधी का किसानों ने किया विरोध

सुल्तानपुर में मेनका गाँधी का किसानों ने किया विरोध

किसानों ने केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी को किसान विरोधी बताया और यहाँ से प्रत्याशी बनाये जाने पर उनका घोर विरोध जताया है।

 Special Coverage News |  2 April 2019 5:21 AM GMT  |  दिल्ली

सुल्तानपुर में मेनका गाँधी का किसानों ने किया विरोध

जहां उत्तर प्रदेश के प्रथम से लेकर पांचवे चरण के मतदान के लिए नेताओ में घमासान मचा हुआ है वही सुल्तानपुर पहुंची केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी जहां पर सुल्तानपुर नगरवासियों व भाजपाइयों ने फूलों से जमकर स्वागत किया और आज चौथे दिन कार्यकर्ताओं से रूबरू होकर जगह जगह सभाओं को सम्बोधित किया। इस दौरान सैकड़ों की संख्या में बूथ कार्यकर्ता उपस्थित रहे,वही आपको बताते चलें कि वरुण गांधी के पीलीभीत से लोकसभा चुनाव लड़ने के बाद मेनका गांधी ने सुल्तानपुर से चुनाव लड़ने का फैसला किया है, जहां मेनका सुल्तानपुर के किसान हित की बात कर रही है तो वही किसानों ने केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी को किसान विरोधी बताया और यहाँ से प्रत्याशी बनाये जाने पर उनका घोर विरोध जताया है।

बताते चलेगी नगर के तिकोनिया पार्क में भाजपा द्वारा आज बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया गया था। इस आयोजन के दौरान मंच से संबोधित करते हुए मेनका ने सुल्तानपुर से अपना भावनात्मक रिश्ता बताया। मेनका ने कहा कि मेरी शादी संजय गांधी के साथ हुई थी और संजय गांधी ने क्षेत्र को इस क्षेत्र को अपनी कर्मभूमि बनाया था। संजय को देश की चिंता तो थी ही उसके साथ साथ सुल्तानपुर अमेठी भी उनके लिए अहम था। उनका इतना लगाव यहां से था कि 30 साल बाद भी आज लोग उन्हें याद करते हैं। जब वरुण को 2014 में यहां चुनाव लड़ाने को लेकर मेनका ने कहा कि मोदी जी से बात कर कर के हमने वरुण को यहां भेजा, वरुण ने यहां बहुत मेहनत करके अस्पताल बनवाया, सड़कों का निर्माण कराया, इसके साथ थी जो भी संभव हो सका ज्यादा से ज्यादा लोगों की उन्होंने मदद की। वरुण गांधी के पीलीभीत से लोकसभा चुनाव लड़ने के बाद मेनका गांधी ने सुल्तानपुर से चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

मेनका ने कहा कि जब विधवा हुई थी, तब मैं 23 साल की थी और उनका बेटा वरुण मात्र 100 दिन का इस दौरान तीन-चार सालों तक वह कुछ ना कर सकी लेकिन बाद में उन्होंने समाज सेवा का फैसला लिया। वही मेनका ने अपनी प्रशंसा करते हुए पीलीभीत की बडी प्रशंसा की,लेकिन आपको हम दिखाते है कि किस तरह इनका व्यवहार है किसानों के साथ जिसको लेकर सुल्तानपुर किसानों ने मेनका का केंद्रीय मंत्री विरोध कर रहे है। वही मेनका ने यह भी बताया कि मेरे पति संजय ने यह सिखाया था कि धर्म क्या है उसी को 40 वर्षो से निभा रही मेनका ने आज बताया कि मैने कभी सरकार का फायदा नहीं उठाया, मैं मंत्री पद का घर भी नहीं लिया, और मैं चलते चलते अपना घर भी बेच दिया,जिससे लोगों की मदद करुँ,और मेनका ने कहा कि मैं सुल्तानपुर इस लिए आई हूँ कि लोगों की तरक्की के साथ सुल्तानपुर का विकास हो,पार्टी को आगे बढ़ाने के लिए और पार्टी का एक हिस्सा बनने के लिए,तभी धरती सुन्दर बनती है जब लोग साथ मिलकर काम करे तब......।

वही सुल्तानपुर जिले के किसान नेता राम प्रकाश सिंह उर्फ़ गुड्डू ने बताया कि वरुण गाँधी ने सुल्तानपुर जिले के किसानों के साथ धोखा किया। वरुण गाँधी ने वादा किया था कि सुल्तानपुर किसान सहकारी चीनीमिल की क्षमता को बढाउँगा,जिससे किसानों को कोई परेशानी नहीं होगी, लेकिन यहाँ ऐसा नहीं हुआ और आज किसान अपना गन्ना लेकर भटक रहा है,और किसान अपना गन्ना आने-पौने दाम में बेचने को मजबूर हो गया है। जिसके कारण किसान के खेत में आज भी गन्ना खड़ा पड़ा है। जब्कि सुल्तानपुर जिले के चार चार भाजपा विधायक है किसी ने कभी चीनीमिल की सुधि नहीं लिया। यहाँ पर भ्रष्टाचार चरम पर है इसलिए हम किसान इस बार भाजपा को वोट नहीं करेंगे।

वही सुल्तानपुर जिले के तेज तर्रार किसान नेता ह्रदय राम वर्मा ने बताया कि एक किसान सहकारी चीनीमिल की जीर्णोद्धार के लिए 5 वर्षो से लड़ाई लड़ी जा रही है कि जिससे गन्ना किसानों के हालात बदल जाय। लेकिन 5 साल से हमलोग संघर्ष करते रहे और लड़ाई लड़ते रहे और सांसद महोदय से कहते रहे,लेकिन इसलिए इस चीनीमिल का जीर्णोद्धार नहीं हुआ कि जब ऊपर बात किया गया कि सभी बाते सुनी जा रही है तो फिर चीनीमिल की क्यों नहीं सुनवाई हो रही है तो पता चला कि आपके जिले का सांसद बीजेपी के ही खिलाफ बोलता और भाषण देता है। इसलिए चीनीमिल का विकास नहीं हो सका। वही हृदयराम ने यह भी कहा कि आज हमलोग इसलिए परेशान है कि गेंहू की कटाई का समय आ गया है लेकिन अभी 40% गन्ना खेतों में खड़े पड़े है। चीनीमिल पेराई करने में अक्षम है इसलिए इसको लेकर हमलोग बराबर संघर्ष कर रहे है और अब ऐसा लग रहा है कि यह सरकार ही किसानों के ख़िलाफ़ है अभी सरकार ढाई तीन लाख किसानों को किसान सम्मान योजना के तहत धनराशि दी गई है लेकिन उसमे से केवल 40 हज़ार ही किसानो को क़िस्त आई है। इससे इस्पस्ट होता है किसानों की दोगुनी आय बढ़ाने के बजाय वह भिखमंगा बनाने में लगी है।

यह वही किसान नेता राम प्रकाश सिंह उर्फ़ गुड्डू ने कहा कि इनको किसान से बदबू आती है जब कोई किसान इनसे मिलने जाता है तो वह कहती है कि यहाँ से बाहर जाओ,मुकदमा लिखवा दूंगी,है मेनका ने पीलीभीत के किसानों पर मुकदमा लिखवा दिया। हमभी सुल्तानपुर से गए थे ये मेनका गाँधी ने ही किसानो पर मुकदमा लिखवा दी। यह साफ है कि ये किसान विरोधी है इनको किसान वोट नहीं डालेगा।

सुल्तानपुर किसान नेता राम प्रकश सिंह उर्फ़ गुड्डू सिंह ने बताया कि केंद्रीय मंत्री मेनका गाँधी सांसद किसान विरोधी है। उन्होंने यह भी कहा कि इसलिए विश्वास करते हुए किसानों और मजदूरों ने इनको वहां से दर-किनार किया और इनका खुला विरोध किया इसलिए इनको सुल्तानपुर जिला भाग कर आना पड़ा। वही इन्हिने ने यह भी बताया कि पेपर और टीवी के माध्यम से देख और सुन रहा हूँ कि भाजपा के जितने भी सांसद प्रत्याशी है वह अपना क्षेत्र छोड़कर दूसरे जिले से ही ताल ठोंक रहे है वही गुड्डू ने कहा कि सुल्तानपुर का किसान और मजदुर मेनका गाँधी को वोट नहीं डालेगा। क्योकि यह किसान विरोधी है यहाँ किसान विरोधी नेता नहीं चाहिए। यह साफ है किसान विरोधी है इनको किसान और मजदूर वोट नहीं डालेगा।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top