Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सुल्तानपुर > जब प्रियंका गाँधी के रोड शो सामने आईं चाची मेनका गाँधी तो कैसे सामना?

जब प्रियंका गाँधी के रोड शो सामने आईं चाची मेनका गाँधी तो कैसे सामना?

 Special Coverage News |  10 May 2019 3:09 AM GMT  |  सुल्तानपुर

जब प्रियंका गाँधी के रोड शो सामने आईं चाची मेनका गाँधी तो कैसे सामना?

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. संजय सिंह के समर्थन में गुरुवार की शाम शहर में रोड शो किया, जिसमें भारी भारी भीड़ उमड़ी. इस दौरान प्रियंका गांधी पर फूल बरसा कर उनका स्वागत किया गया. जिसके बाद प्रियंका गांधी ने भी अपने समर्थकों की ओर फूल उछालते हुए उनका आभार व्यक्त किया. वहीं दरियापुर में भतीजी प्रियंका गांधी वाड्रा का चाची मेनका गांधी के काफिले से आमना-सामना हो गया. यही नहीं इस दौरान केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी आमने-सामने आ गईं, जिसके बाद प्रियंका गांधी ने हाथ हिलाकर चाची मेनका गांधी का अभिवादन किया.

दरअसल, प्रियंका गांधी का रोड शो सुलतानपुर शहर में दरियापुर ओवरब्रिज के पास से शुरु होकर बाधमंडी, राहुल चौराहा, लालडिग्गी चौराहा, प्रधान डाकघर चौराहा, जिला अस्पताल चौराहा, सब्जी मंडी होते हुए मालगोदाम तिराहे पर समाप्त होना था, ऐसे में जैसे ही प्रियंका गांधी का रोड शो शुरू हुआ उसी दौरान केंद्रीय मंत्री व सुलतानपुर से भाजपा प्रत्याशी मेनका गांधी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जनसभा से लौट रही थीं और इस प्रकार से दोनों का काफिला एक दूसरे के सामने आ गया.

बता दें आमतौर न तो सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी और न ही वरुण या मेनका गांधी एक-दूसरे के बारे में कुछ नहीं बोलते हैं. ऐसे में जब एक ही परिवार, लेकिन अलग-अलग हिस्सों में बटें इन परिवार के सदस्यों का आमना-सामना हो गया तो दोनों ने ही मुस्कान के साथ एक-दूसरे का अभिवादन किया. इसके बाद पुलिस ने मेनका गांधी का काफिला उनके आवास की ओर मोड़ दिया और प्रियंका गांधी वाड्रा के काफिले को आगे जाने दिया. बता दें सुलतानपुर से भाजपा प्रत्याशी और गांधी परिवार की बड़ी बहू मेनका गांधी चुनावी मैदान में हैं. वहीं प्रियंका गांधी यहां उनके प्रतिद्वंद्वी और कांग्रेस प्रत्याशी डॉ संजय सिंह के चुनाव प्रचार के लिए आई थीं.

यह रोड शो इसलिए और महत्वपूर्ण था, क्योंकि भाजपा की ओर से उनकी चाची मेनका गांधी सुलतानपुर से उम्मीदवार हैं. बगल की अमेठी सीट पर राहुल गांधी की मौजूदगी के कारण लोगों को इस बात में दिलचस्पी थी कि परस्पर विरोधी खेमे के गांधी क्या आमने-सामने होंगे? राहुल के बाद प्रियंका के रुख से साफ हुआ कि उन्हें कोई परेशानी नहीं है. राहुल गांधी 22 अप्रैल को अमहट हवाईपट्टी के समीप और 4 मई को धंमौर में संजय सिंह के समर्थन में कार्यकर्ता सम्मेलन कर चुके हैं. (इनपुटः भाषा से भी)

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top