Top
Begin typing your search...

2 गज की दूरी के साथ IMA की पासिंग आउट परेड, कोरोना काल में देश की सुरक्षा को तैयार 'शूरवीर'

पॉसिंग आउट परेड के बाद कुल 423 जेंटलमैन कैडेट इंडियन मिलिट्री एकेडमी से भारतीय सेना के अधिकारी बनकर निकलेंगे.

2 गज की दूरी के साथ IMA की पासिंग आउट परेड, कोरोना काल में देश की सुरक्षा को तैयार शूरवीर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

देहरादून: देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी (Indian Military Academy) यानी IMA में शनिवार को पासिंग आउट परेड आयोजित की गई. परेड के बाद कुल 423 जेंटलमैन कैडेट इंडियन मिलिट्री एकेडमी से भारतीय सेना के अधिकारी बन गए. इनमें 333 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले, जबकि अफगानिस्तान समेत नौ मित्र देशों के 90 सैन्य अधिकारी अपनी सेनाओं में शामिल होंगे.

कोरोना संकट के चलते जीवन के इस बेहद खास पल में इन सभी जेंटलमैन कैडेट्स के परिजनों को इस समारोह में शामिल होने का मौका नहीं मिला. इंडियन मिलिट्री एकेडमी के 87 वर्ष के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब परिवार के लोग नए अधिकारियों के कंधों पर सितारे नहीं लगा पाए.

इस मौके पर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुंकुंद नरवणे ने संबोधित करते हुए कहा कि जवान अपने परिवार का नाम ऊंचा करें. ये जवान हर चुनौतियों का सामना करेंगे. उन्होंने आगे कहा, "हम समझते हैं कि आपके परिवार का साथ ना होना आपके लिए कितना बड़ा मुश्किल है. कल तक ये आपके बच्चे थे, अब हमारे हैं." सेना प्रमुख ने स्वॉर्ड ऑफ ऑनर (sword of honor) अवॉर्ड आकाश ढिल्लो को प्रदान किया.

परेड के दौरान दिखी सोशल डिस्टेंसिंग

परेड के दौरान भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पूरा पालन किया गया. अधिकारी से लेकर कैडेट सभी मास्क पहने हुए नजर आए. परेड सादगी के साथ आयोजित की गई. हल्की बारिश के बीच परेड जारी रही. दरअसल, बारिश के दौरान परेड को चालू रखा जाता है. अगर किसी भी वजह से परेड कैसिंल करनी पड़े या अंदर ले जानी पड़े, उसे इंडियन मिलिट्री एकेडमी में मान्यता के अनुसार अपशकुन माना जाता है.



Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it