Top
Home > Archived > उत्तराखंड में मची तबाही, हजारों तीर्थयात्री रास्ते में फंसे

उत्तराखंड में मची तबाही, हजारों तीर्थयात्री रास्ते में फंसे

उत्तराखंड के कई इलाको में बादल फटने से भारी तबाही, बड़कोट के गंगतादी में बादल फटने से नाले में आए तेज बहाव से 3 बच्चे बह गए , 2 को बचाया गया , 12साल की नेपाली मूल की बच्ची लापता

 शिव कुमार मिश्र |  2 Jun 2018 2:23 AM GMT  |  पौड़ी

उत्तराखंड में मची तबाही, हजारों तीर्थयात्री रास्ते में फंसे

उत्तराखंड में शुक्रवार शाम को बदले मौसम ने फिर तबाही मचाई। पिथौरागढ़ और बेतालघाट में बादल फटने से लोगों के घरों और दुकानों में मलबा घुस गया।वहीं पौड़ी में भी बादल फटने से गैशालाएं दब गई। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि बादल फटने से कोई जान-माल का कोई नुकसान नही पहुंचा है। लेकिन इससे लोगों के घरों में काफी नुकसान हुआ है।

उत्तराखंड के कई इलाको में बादल फटने से भारी तबाही, बड़कोट के गंगतादी में बादल फटने से नाले में आए तेज बहाव से 3 बच्चे बह गए , 2 को बचाया गया , 12साल की नेपाली मूल की बच्ची लापता

मौसम के अचानक करवट बदलने के साथ ही उत्तराखंड के कर्इ जिलों में भारी बारिश शुरू हो गई है। पिथौरागढ़ जनपद और नैनीताल के बेताल घाट में बादल फटने से भारी तबाही मची है। पिथौरागढ़ जिले में भारी बारिश ने भारत-नेपाल सीमा पर काली और गोरी नदी घाटी क्षेत्र में जमकर कहर बरपाया है।

उत्तराखंड में मौसम करवट बदल रहा है। कभी धूप तो कभी बारिश ने लोगों के जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है। कुमाऊं के ज्यादातर जिलों में मूसलाधार बारिश हो रही है। बलुवाकोट और डीडीहाट तहसील के तल्लाबगड़ क्षेत्र में डेढ़ घंटे की भारी बारिश से लोग दहशत में है। इसके साथ ही नदी-नाले भी उफान पर है।




जगह-जगह भूस्खलन हो रहा है। शुक्रवार को बादल फटने के बाद करीब एक दर्जन दुकानों-मकानों में मलबा और पानी घुसा है। नालों का पानी खेतों में आने से खेत मलबे से पट गए हैं। जौलजीबी तल्ला-बगड़ मार्ग लखनपुर के पास मलबा आने से बंद हो गया है। इसके साथ ही क्षेत्र के तीन और मार्ग भी बंद है। हालांकि, मार्गों को खुलवाने के लिए लोकनिर्माण विभाग की टीम मौके पर पहुंच गर्इ है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it