Top
Home > राज्य > पश्चिम बंगाल > कोलकाता > रायगंज हिंसा: सीपीएम उम्मीदवार और सासंद मोहम्मद सलीम पर हमला, लेकिन इन पत्रकारों के सिर फोड़ने की खबर क्यों नहीं?

रायगंज हिंसा: सीपीएम उम्मीदवार और सासंद मोहम्मद सलीम पर हमला, लेकिन इन पत्रकारों के सिर फोड़ने की खबर क्यों नहीं?

जलपाईगुड़ी लोकसभा क्षेत्र में आज धूप गोरी विधानसभा क्षेत्र से आरोप आए की बीजेपी के ऊपर तृणमूल कांग्रेस की एक समर्थक की घर में आग लगा दी गई. उधर मालबाजार विधानसभा क्षेत्र के अंदर भाजपा के एक चुनाव कार्यालय को तोड़ फोड़ कर दी गई.

 Special Coverage News |  18 April 2019 1:44 PM GMT  |  दिल्ली

रायगंज हिंसा: सीपीएम उम्मीदवार और सासंद मोहम्मद सलीम पर हमला, लेकिन इन पत्रकारों के सिर फोड़ने की खबर क्यों नहीं?
x

प्रथ्वीसदास गुप्ता

रायगंज क्षेत्र में सुबह से ही इस्लामपुर मतदान केंद्र की दखलदांजी की खबर मिलते ही वहां पहुंचे सीपीआईएम की उम्मीदवार सांसद मोहम्मद सलीम की गाड़ी के ऊपर तोड़फोड़ करते हुए हमला बोल दिया. रायगंज लोकसभा क्षेत्र में वॉलपेपर विधानसभा क्षेत्र के अंदर फुलवारी अंचल में मतदान केंद्रके अंदर दखल देने की खबर मिलते ही वहां पहुंचे थे. इस मारपीट में एबीपी न्यूज़ के दो पत्रकारों के ऊपर भी पथराव हुआ और उनको लाठी से लोहे की बार से पीटे गए.


पीटे गये पत्रकारों के नाम पार्थ प्रतिम घोष और सफल मजूमदार है. इसमें एक का सर फोड़ दिया गया, जिसमें चार टांके भी लगे और आरोप है उनके कैमरे भी तोड़ दिए गए. इस घटना का आरोप तृणमूल के ऊपर है. इधर इस्लामपुर क्षेत्र में 135 नंबर मतदान केंद्र में बीपीपेट मशीन खराब होने की वजह से मतदान देरी में शुरू हुआ. रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र की कांग्रेस की उम्मीदवार भूतपूर्व केंद्रीय मंत्री कांग्रेस की वरिष्ठ नेता रहे प्रिय रंजन दास मुंशी की धर्मपत्नी दीपा दास मुंशी मतदान करने गईं तो ईवीएम खराब होने की वजह से उनको लंबे समय इंतजार करना पड़ा. रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत मौजमपुर में भी सेना के दवाव में जनता सड़क पर उतर आई. बाद में 4 घंटा देरी में मतदान शुरू हुआ.




जलपाईगुड़ी लोकसभा क्षेत्र में आज धूप गोरी विधानसभा क्षेत्र से आरोप आए की बीजेपी के ऊपर तृणमूल कांग्रेस की एक समर्थक की घर में आग लगा दी गई. उधर मालबाजार विधानसभा क्षेत्र के अंदर भाजपा के एक चुनाव कार्यालय को तोड़ फोड़ कर दी गई. जिसमें अभियुक्त टीएमसी है. इसके बाद में माल बाजार एरिया में टीएमसी और बीजेपी में लड़ाई छिड़ गई कई लोग घायल हुए. जलपाईगुड़ी लोकसभा क्षेत्र में 17 ,24 नंबर बूथ में गोली चलने की भी खबर है. कुल मिलाकर इस क्षेत्र में 710 आरोप पत्र कमीशन में दाखिल हुयें है. यह सब के बाद भी पश्चिम बंगाल के ऊपर चुनाव आयोग ने जो विशेष प्रभारी अजय नायक और केंद्रीय आधा सेना की प्रभारी अवसर पर विवेक दुबे जी ने मीडिया के सामने कहा छोटे-मोटे कुछ घटना घटे हैं पर दूसरी दफा चुनाव पश्चिम बंगाल में शांतिपूर्ण मतदान शांति से हुआ.




आज शाम से कोलकाता में वामपंथियों ने सीओ ऑफिस के बाहर धरने पर बैठे और उनकी शिकायत है चुनाव आयोग की नीति की वजह से राज्य के शासक पार्टी तृणमूल कांग्रेस की लोगों ने जगह जगह पर मारपीट की है. मतदाताओं को मतदान करने में रुकावट पैदा किया. आज पश्चिम बंगाल में दूसरी जिले में भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने एक रैली को संबोधित करते हुए अपने भाषण में कहा केंद्रीय अर्ध सैनिक बल भेजने का काम चुनाव आयोग का है. पर इनको कहां कैसे और किस तरह से नियुक्त किया जाएगा इसकी जिम्मेदारी राज्य पुलिस के पास है. जिसका फायदा तृणमूल कांग्रेस उठा रहा है. जहां-जहां सेना की जरूरत है वहां सेना नहीं भेजते है. वह मतदान केंद्र में पुलिस की जांच हो रही है किए जा रहे हैं और जहां सेना की जरूरत नहीं है वह नियुक्ति कर रहे हैं. राज्य की पुलिस पर यह आरोप राजनाथ सिंह ने लगाये है. उनका कहना है कि कांग्रेस वोट में जीतने के लिए साम दाम दंड भेद सब लगा रहे हैं पर जनता उनके साथ छोड़ दिया है इसका नतीजा 23 मई को समझ में आएगा और पता चल जाएगा दूध का दूध और पानी का पानी क्या है.





इसके बाद मुख्यमंत्री तथा त्रणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी ने कहा यह पूरे राज्य में कांग्रेसी सीपीएम और इसकी गठबंधन हो चुकी है. खास करके कांग्रेस के साथ गठबंधन हुई है. यह स्पष्ट हो चुका है जो बात बोल रहा है. कांग्रेसी बोल रहे है और उसके साथ समर्थन दे रहा है. भाजपा इससे दिन के उजाले की तरह साफ है कि तीनों पार्टी की गठबंधन हुआ है. इस गठबंधन को उखाड़ के फेंक देंगे बंगाल से. और बीजेपी को तो घुसने ही नही देना है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it