Top
Begin typing your search...

विधानसभा चुनाव: पहले चरण में जमकर हुआ मतदान, बंगाल में 80 फीसदी तो असम में 72.30% वोटिंग

आज पश्चिम बंगाल और असम में मतदान हुआ।

विधानसभा चुनाव: पहले चरण में जमकर हुआ मतदान, बंगाल में 80 फीसदी तो असम में 72.30% वोटिंग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता/गुवाहाटी : आज पश्चिम बंगाल और असम में मतदान हुआ। चुनाव आयोग ने बताया कि असम में शाम 6 बजे तक 72.14% और पश्चिम बंगाल में 79.79% मतदान दर्ज किया गया। पहले चरण में पश्चिम बंगाल में 30 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले गए, कुल 73 लाख से अधिक मतदाता 191 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कर दिया है। वहीं असम में भी पहले चरण के लिए वोटिंग हुई, यहां 47 सीटों के लिए 81.09 लाख मतदाताओं को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करना था।

मतदान के समय में बढ़ोतरी

पश्चिम बंगाल में पहले चरण का मतदान शाम 6:30 बजे तक चला। चुनाव आयोग ने 2 मार्च को एक अधिसूचना जारी कर यहां पहले चरण के लिए मतदान का समय आधा घंटा यानी 30 मिनट बढ़ाने की घोषणा की थी। यह फैसला कोविड-19 को लेकर लगाई गई पाबंदियों के मद्देनजर लिया गया। पहले मतदान का समय सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक निर्धारित था। असम की बात करें तो यहां मतदान शाम 6 बजे तक चला। यहां मतदान का समय एक घंटा बढ़ाया गया था।

LIVE

बीजेपी नेता सौमेंदु अधिकारी मे कहा कि टीएमसी ब्लॉक अध्यक्ष राम गोविंद दास और उनकी पत्नी की अगुवाई में तीन मतदान केंद्रों पर मतदान में धांधली हुई। मेरे आगमन ने उनकी शरारतों को जारी रखने के लिए उनके लिए समस्या खड़ी कर दी, इसलिए उन्होंने मेरी कार पर हमला किया और मेरे ड्राइवर की पिटाई की।

टीएमसी के सुदीप बंद्योपाध्याय ने कहा कि नई प्रणाली हमें स्वीकार्य नहीं है। हम मांग करते हैं कि अगले चरण से मतदान एजेंट संबंधित मतदान केंद्र का स्थानीय होना चाहिए। सीईओ ने हमें इस मामले को देखने का आश्वासन दिया है।

टीएमसी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल कोलकाता में मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मिला।सुदीप बंद्योपाध्याय कहते हैं, "बीजेपी ने एक ज्ञापन सौंपकर बूथ एजेंटों की नियुक्ति की व्यवस्था को बदलने का अनुरोध किया था, जिसमें उन्हें संबंधित बूथ का मतदाता होना चाहिए और किसी भी बूथ पर किसी को भी अनुमति देनी चाहिए"

ममता बनर्जी ने कहा कि अमित शाह चुनाव कराने की कोशिश कर रहे हैं। चुनाव आयोग के प्रति उनका सम्मान है। लेकिन अमित शाह चुनाव को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं। गुजरात दंगे और दिल्ली दंगे में उनका हाथ सना हुआ है। वह कहते हैं कि धमाका होगा, क्या धमाका करंगे। आप अपने आप को और दिल्ली में कैसे बचा पाएंगे।

पहला चरण जारी है और इसके साथ ही बीजेपी की चरणबद्ध विदाई की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मेरी पार्टी में दो गद्दार थे .पिता और पुत्र की जोड़ी ने हमारे खिलाफ काम किया है। मैं राज्य की महिलाओं को बधाई देता हूं। उन्होंने धन बांटने के अपने प्रयासों को विफल कर दिया है।

डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग को लिखे खत में कहा कि एकाएक मतदान गिरने से आयोग की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। कांठी दक्षिण और उत्तर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 9.13 पर मतदान दोनों जगहों पर 18.47 और 18.95 फीसद थी। लेकिन चार मिनट के बाद यह घटकर 10.60 और 9.40 फीसद हो गया।

कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने कहा कि यह मेरे लिए बहुत भावुक क्षण है क्योंकि यह कई साल बाद पहली बार है जब मैं अपने माता-पिता के बिना मतदान केंद्र पर आ रहा हूं। विश्वास है कि लोग झूठ और धोखे की राजनीति को वोट देने जा रहे हैं और राजनीति के लिए मतदान करते हैं जो गारंटी देता है कि उनका भविष्य उज्ज्वल है। उन्होंने जोरहाट में अपने मत का इस्तेमाल किया।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it