Home > Archived > सपा में एमएलसी टिकट को लेकर मची मारामारी, दावेदारों ने डाला लखनऊ में डेरा

सपा में एमएलसी टिकट को लेकर मची मारामारी, दावेदारों ने डाला लखनऊ में डेरा

 Special News Coverage |  1 Feb 2016 4:05 AM GMT

201507081205508413_SP-IS-TAKING-ADVANTAGE-OF-FORMER-PM-CHANDRASEKHARS-HERITAGE_SECVPF
लखनऊः

उत्तर प्रदेश में विधान परिषद की 36 सीटों पर चुनाव के कार्यक्रम जैसे ही घोषित हुए सत्तारूढ़ पार्टी सपा से टिकट पाने के लिए राजधानी में दावेदारों का जामवाड़ा लगना शुरू हो गया है। सभी दावेदारों ने राजधानी में अपने समर्थकों के साथ अपने आकाओं के यहाँ डेरा डाल दिया है।

टिकट के दावेदारी के लिए नेता राजधानी पहुंचकर अपनी पैरवी कराने में जुट गए हैं। किसी के लिए विधायक, तो किसी के लिए मंत्री लॉबिंग कर रहे हैं तो किसी के रहनुमा संगठन के नेता बने हुए हैं। मुख्यमंत्री के सरकारी आवास पर दावेदारों की काफी भीड़ है। दावेदार समर्थकों सहित अपनी दावेदारी जताने पहुंचे हुए हैं। कई जिलों के नेताओं ने मुख्यमंत्री से मुलाकात भी की। टिकट की आस रखने वाले नेता पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव, शिवपाल सिंह यादव और रामगोपाल से भी अपनी पैरोकारी कर रहे हैं।


इसे भी पढ़ें UP: विधान परिषद की 36 रिक्त सीटों पर चुनाव घोषित, 3 मार्च को मतदान, 6 मार्च को मतगणना

सपा मुख्यालय में 27 जनवरी को हुए युवा सम्मेलन में कई वक्ताओं ने मुलायम सिंह यादव के सामने एमएलसी चुनाव में नौजवानों को ज्यादा से ज्यादा टिकट देने की मांग उठाई थी। ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि कई नौजवानों को टिकट दिया जाएगा। अपने कार्यकाल के चार साल से विधान परिषद में बहुमत से सपा दूर है। यही वजह है कि पार्टी इन 36 सीटों में से ज्यादा से ज्यादा जीतकर विधानसभा की तरह विधान परिषद में भी अपने आप को बहुमत में लेकर मजबूत करना चाहती है।

इसे भी पढ़ें सैफई महोत्सवः छोटे अखिलेश ने कुछ यूँ किया कलाकारों का स्वागत


समाजवादी पार्टी इस चुनाव को लेकर काफी गंभीर है। वह ज्यादा से ज्यादा सीटों पर जीत दर्ज करना चाहती है। विधान परिषद चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी ने दावेदारों के साक्षात्कार लेकर उसने छह माह पहले ही हर सीट के लिए पैनल तैयार कर लिए थे। सपा के राज्य संसदीय बोर्ड ने प्रत्याशियों की घोषणा के लिए पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव को अधिकृत कर दिया था, लेकिन समय पर चुनाव न होने के कारण उम्मीदवारों का एलान नहीं किया गया। ऐसा माना जा रहा है कि फरवरी के पहले हफ्ते में सपा प्रत्याशियों की घोषणा कर देगी।

स्थानीय प्राधिकारी क्षेत्र के 36 विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल 15 जनवरी को पूरा हो चुका है। इसी के साथ बसपा ने उच्च सदन में सबसे बड़े दल होने का रुतबा खो दिया है। उसके अब केवल 14 सदस्य हैं। 27 सदस्यों के साथ सपा अब सबसे बड़ी पार्टी है। 100 सदस्यों वाले सदन में बहुमत के लिए सपा को 24 और सदस्यों की जरूरत है। पार्टी को यह भरोसा है कि इस चुनाव में वह बहुमत का आंकड़ा पूरा कर लेगी।

बता दें कि एमएलसी चुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने कार्यक्रम घोषित हो गए हैं। 36 सीटों पर होने वाले इस चुनाव की अधिसूचना 8 फरवरी को जारी की जाएगी। 15 फरवरी को नामांकन, 16 फरवरी को नामांकन पत्रों की जांच, 18 फरवरी को नाम वापसी और 3 मार्च को वोटिंग होगी। इस चुनाव की कॉउंटिंग छह मार्च को होगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top